ड्यूटी पर रहते हुए 'कोरोना' के कारण मृत्यु के मामले में पुलिस के परिवार को 5 लाख रुपये का अनुदान

उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने इसकी जानकारी दी

ड्यूटी पर रहते हुए 'कोरोना' के कारण मृत्यु के मामले में पुलिस के परिवार को 5 लाख रुपये का अनुदान
SHARES

राज्य में पुलिस बल 'कोरोना' के खिलाफ लड़ाई में योगदान दे रहा है।  ड्यूटी पर एक पुलिस अधिकारी की 'कोरोना' के कारण दुर्भाग्यपूर्ण मौत के मामले में उनके परिवार को 50 लाख रुपये का आधिकारिक अनुदान प्रदान किया जाएगा।  उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने आज यह जानकारी दी।




यह निर्णय आज उप मुख्यमंत्री अजीत पवार की अध्यक्षता में मंत्रालय में आयोजित एक बैठक में लिया गया।  बैठक में गृह मंत्री अनिल देशमुख, स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे, वित्त विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव, मनोज सोनिक और वित्त, स्वास्थ्य और उद्योग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।  बैठक ने सार्वजनिक स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा, पुलिस और विभागों के लिए मार्च के शेष वेतन को प्राथमिकता देने का फैसला किया, जो 'कोरोना' के खिलाफ लड़ाई का नेतृत्व कर रहा था।  संभागीय आयुक्त और कलेक्टर को 'कोरोना' के खिलाफ लड़ाई में होमगार्ड के जवानों की अतिरिक्त मदद लेने का अधिकार दिया गया है।


होम क्वारंटाइन का सख्ती से करे पालन

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस से बचने के लिए होम क्वारंटीन और अस्पताल क्वारंटीन, दो विकल्प है। इसलिए कोरोना वायरस की बीमारी से अस्पताल में क्वारंटीन होने की बजाय नागरिक स्वेच्छा से होम क्वारंटीन होकर अपनी और अपने परिवार की सुरक्षा करें। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ गैर जिम्मेदार लोगों के कारण कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। बाजार में सब्जी खरीदने की हो रही भीड़ के कारण लोगों के घरों में कोरोना पहुंचने का खतरा पैदा हो गया है। गांव के गुंडों द्वारा पुलिस पर हमला किया जा रहा है। ऐसे असमाजिक तत्वों का सरकार ने गंभीरता से संज्ञान लिया है।


संबंधित विषय