Advertisement

मीठी नदी उफान पर, खतरे के निशान से ऊपर हुआ पानी, 50 से अधिक लोग हटाए गए

BMC ने इस क्षेत्र में रहने वाले लगभग 50 नागरिकों को वहां से सुरक्षित स्थान पर स्थानांतरित कर दिया गया। हालांकि बारिश थमने के बाद फिर से नागरिकों को उनके घर वापस भेज दिया गया।

मीठी नदी उफान पर, खतरे के निशान से ऊपर हुआ पानी, 50 से अधिक लोग हटाए गए
SHARES

मंगलवार रात से ही मुंबई (raon in mumbai) और उपनगरों में भारी बारिश के कारण मीठी नदी (mithi nadi) का स्तर खतरे के निशान से ऊपर चला गया है। पानी का जलस्तर बढ़ने के बाद कुर्ला पश्चिम में हवाई अड्डा क्षेत्र के क्रांतिनगर इलाके में पानी भरने लगा। जिसके बाद BMC ने इस क्षेत्र में रहने वाले लगभग 50 नागरिकों को वहां से सुरक्षित स्थान पर स्थानांतरित कर दिया गया। हालांकि बारिश थमने के बाद फिर से नागरिकों को उनके घर वापस भेज दिया गया।

 मिठी नदी (mithi river) के किनारे बसी हुई झोपड़ियों को खतरे से आगाह किया गया है, क्योंकि मुंबई से बहने वाली मीठी नदी खतरे के स्तर को पार कर गई है। कुर्ला के क्रांतिनगर में पानी भरने से 50 से अधिक लोगों को वहां से हटा दिया गया। बारिश थमने के बाद उन्हें वापस उनके घर भेज दिया गया। इस बीच इस बारिश से, मुंबई में शॉर्ट सर्किट की 40 घटनाएं सामने आई और पेड़ और शाखाओं के गिरने की कुल 12 घटनाएं हुईं। तो दूसरी ओर, ताड़देव पुलिस स्टेशन के पीछे स्थित एसआरए इमारत में नई जयफलावाड़ी के सामने, इमारत का एक हिस्सा ढह गया। गनीमत रही कि इस, इस घटना में कोई घायल नहीं हुआ।

मूसलाधार बारिश (heavy rain) को देखते हुए बुधवार को मुंबई के BMC कमिश्नर इकबाल सिंह चहल (iqbal singh chahal) ने प्राइवेट ऑफिसों (private office) में छुट्टी की घोषणा कर दी। मंगलवार शाम से शुरू हुई भारी बारिश से मुंबई की सड़के किसी नदी में तब्दील हो गयी थीं और पटरियों पर पानी भरने के कारण रेल यातायात (rail traffic) भी बाधित हो गया। मुंबई में अगले 24 घंटों में फिर से भारी बारिश की चेतावनी के बाद आयुक्त ने बीएमसी कर्मचारियों को तैयार रहने के लिए कहा है। इस अवधि के दौरान सभी प्रतिष्ठानों और कार्यालयों को बंद करने का आदेश दिया गया।

Read this story in मराठी or English
संबंधित विषय