पानी की लीकेज रोकने के लिए बीएमसी ने मंजूर किये 8 करोड़ रुपए

दरअसल इस बार मानसून की कमी के कारण पानी की आपूर्ति करने वाले तालाबों में पानी की कमी है। पानी की कमी को देखते हुए बीएमसी मार्च महीने में पानी की कटौती भी कर सकती है।

SHARE

मुंबई में पानी की सप्लाई करने वाली पाइप लाइन की मरम्मत करने के लिए बीएमसी की तरफ से 8.76 करोड़ रूपये बजट का प्रावधान किया है। पुरानी और जीर्ण अवस्था में होने के कारण इन पाइपों से हर दिन सैकड़ो लीटर पानी लीकेज के कारण सड़कों पर बह जाता है। इन लीकेज को रोकने के लिए बीएमसी ने कुल 440 स्थानों को चिन्हित किया है जहां पानी की लीकेज होती है।

एक अनुमान के मुताबिक मुंबई में हर दिन 3750 लीटर पानी की आपूर्ति की जाती है, जिसमें से 27 फीसदी पानी लीकेज के कारण बह जाते हैं या फिर चोरी किये जाते हैं। इन्हें रोकने के लिए अब बीएमसी ने यह कदम उठाया है। इसके लिए घाटकोपर, भांडुप और मुलुंड जैसे इलाकों में इन लीकेज को रोकने के काम के लिए ठकेदारों को नियुक्त भी कर दिया गया है। सिर्फ घाटकोपर में ही कुल 363 लीकेज चिन्हित किये गए हैं, और दक्षिण मुंबई के A,B,C,D,E विभाग में 78 लीकेज सामने आए हैं।  

दरअसल इस बार मानसून की कमी के कारण पानी की आपूर्ति करने वाले तालाबों में पानी की कमी है। पानी की कमी को देखते हुए बीएमसी मार्च महीने में पानी की कटौती भी कर सकती है।   

घाटकोपर में लगभग 50 से 100 मीटर लंबे पुराने या फिर जंग लगे 37 पाइपों को बदल दिया गया जिसमें कुल 87 लाख रूपये खर्च किये गए। दक्षिण मुंबई के A,B और E विभाग में साल 2017 दिसंबर महीने से लेकर अक्टूबर 2018 महीने तक 78 पाइपों की लीकेज को ठीक किया गया जिसके लिए 50 लाख 92 हजार रूपये खर्च किये गए थे।

पूर्वी उपनगर की बात करें तो घाटकोपर, भांडुप और मुलुंड विभाग में लीकेज को ठीक करने, पुराने पाइपों को बदलने सहित अन्य कार्य के लिए 4 करोड़  89 लाख 13 हजार 956 रुपए जबकि शहरी भागों में लीकेज रोकने, पुरानी पाइपों को बदलने के लिए 3 करोड़ 87 लाख 72 हजार रूपये यानी इस काम के लिए कुल 8 करोड़ 76 लाख 85 हजार 950 रुपए बीएमसी ने मंजूर किये हैं।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें