विक्टोरियन गोथिक और आर्ट डेको इमारत यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों की सूची में शामिल

देश में विश्व धरोहर स्थलों की संख्या बढ़कर अब 37 हो गई है जिनमें 29 सांस्कृतिक, सात प्राकृतिक और एक मिश्रित स्थल हैं।

SHARE

एलिफेंटा गुफाओं और छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस रेलवे स्टेशन (विक्टोरिया टर्मिनस) के बाद विक्टोरियन गोथिक और आर्ट डेको को यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों की सूची में शामिल किया गया है। यूनेस्को की विश्व धरोहर समिति के 42वें सत्र में यह फैसला किया गया।


यूनेस्को ने अपने अधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर एक ट्विट कर इसकी जानकारी दी। पिछले साल गुजरात के अहमदाबाद को विश्व धरोहर शहर घोषित किया गया था। अहमदाबाद विश्व धरोहर शहर घोषित किया जाने वाला भारत का पहला शहर है। दक्षिण मुंबई में स्थित विक्टोरियन गोथिक आर्ट डेको के भवनों को मियामी के बाद दुनिया की सबसे बड़ी भवन श्रंखला में शामिल किया जाता है।

यह भी पढ़े- मुफ्त यूनिफॉर्म योजना: बिल दिखाओ, यूनिफॉर्म के पैसे पाओ

बॉम्बे हाईकोर्ट का भवन विक्टोरियन गोथिक शैली का बेहतरीन उदाहरण है। इनका निर्माण 19वीं सदी में हुआ था। ओवल मैदान के पश्चिमी इलाके में स्थित आर्ट डेको भवनों का निर्माण 1930 से 1950 के बीच हुआ है। मुंबई की आर्ट डेको बिल्डिंग में आवासीय भवन, व्यवसायिक दफ्तर, अस्पताल, मूवी थियेटर आदि आते हैं।

देश में अब 37 विश्व धरोहर
केंद्रीय सांस्कृतिक मंत्रालय ने कहा कि यूनेस्को के इस तमगे से देश में विश्व धरोहर स्थलों की संख्या बढ़कर अब 37 हो गई है जिनमें 29 सांस्कृतिक, सात प्राकृतिक और एक मिश्रित स्थल हैं। दिल्ली में लाल किला , कुतुब मीनार और हुमायूं का मकबरा विश्व धरोहर स्थल हैं।

यह भी पढ़े- स्कूली वाहनों में ट्रैफीक पुलिस करेगी विशेष जांच

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बधाई दी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विक्टोरियन गोथिक और आर्ट डेको को यूनेस्को के विश्व विरासत स्थल की सूची में शामिल किए जाने पर मुंबई की जनता को बधाई दी है। उन्होंने ट्विटर के जरिये जारी अपने संदेश में कहा, विक्टोरियन गोथिक और आर्ट डेको को यूनेस्को के विश्व विरासत स्थल में शामिल किए जाने पर मुंबई की जनता को बधाई।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें