Advertisement

मुंबई में 100 फीसदी लॉकडाउन की कोई जरूरत नहीं है: BMC कमिश्नर


मुंबई में 100 फीसदी लॉकडाउन की कोई जरूरत नहीं है: BMC कमिश्नर
SHARES

BMC कमिश्नर इकबाल सिंह चहल (BMC commissioner iqbal singh chahal) के मुताबिक मुंबई में 100 फीसदी लॉकडाउन (lockdown) लगाने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा मुंबई में कोरोना (coronavirus in mumbai) की स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। मुंबई की कोरोना रिकवरी दर 70 फीसदी (Coronavirus recover rate) हो गई है और मरीजों की संख्या दोगुनी होने की दर यानी डबलिंग रेट (doubling rate) 50 दिन से अधिक हो गई है। अगले कुछ दिनों में इसमें और सुधार होने की उम्मीद है। इसलिए, मुंबई को 100 फीसदी लॉकडाउन लागू करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

मुंबई शहर को देश में कोरोना हॉटस्पॉट (Corona hotspot) के रूप में जाना जाता है। और मुंबई में कोरोना रोगियों की संख्या 90,000 के पार हो गई है। तो अब कोरोना की बढ़ती हुए केसों को देखते हुए मुंबईकर यह सोच रहे हैं कि क्या मुंबई में पुणे, ठाणे, कल्याण-डोंबिवली, मीरा-भाईंदर, भिवंडी, नवी मुंबई की तरह क्या मुंबई में भी 100 प्रतिशत सख्त लॉकडाउन लागू किए जाएंगे।  

मुंबई के BMC कमिश्नर इकबाल सिंह चहल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मुंबई में कोरोना की स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है और यह पुणे और ठाणे की तरह नहीं है। मुंबई मे रिकवरी रेट 70 प्रतिशत हो गई है। साथ ही डबलिंग रेट 50 दिनों से अधिक है। चहल ने कहा कि अगले कुछ दिनों में इसमें और सुधार होने की उम्मीद है।

चहल ने आगे बताया कि, मुंबई नगर निगम ने 'चेस द वायरस' (chase the virus) अभियान के तहत अधिकतम कोरोना रोगियों और उनके संपर्क में आने वाले लोगों का पता लगाने के लिए कोरोना परीक्षणों की संख्या में वृद्धि की है। हमने मुंबई में कोरोना परीक्षणों की संख्या 4 साढ़े 4 हजार से बढ़ाकर 6800 कर दी है।

उस समय जब लगभग 4,000 टेस्ट करते थे तब औसतन 1300 से 1400 कोरोना संक्रमित मरीज पाए जाते थे लेकिन अब 6,800 टेस्ट कर रहे हैं तो केवल 1,243 कोरोनावायरस रोगी पाए जा रहे हैं।

इकबाल सिंह चहल ने बताया कि केवल 200 मरीज अस्पताल में भर्ती होने की अवस्था में हैं।
उन्होंने बताया कि, कोरोना अस्पताल के बेड में भी वृद्धि की गई है और टेस्ट को बढ़ाते हुए रोगियों की बढ़ती संख्या को भी ध्यान में रखा जा रहा है।  सघन चिकित्सा इकाई का भी विस्तार किया।  वर्तमान में, मुंबई में कोरोना रोगियों के लिए उपलब्ध कुल बिस्तरों में से 7000 बिस्तर खाली हैं।  इकबाल सिंह ने यह भी कहा कि गहन चिकित्सा इकाई में 250 रिक्तियां हैं। 

संबंधित विषय
Advertisement