रेल हादसों में 2018 में 2,981 यात्रियों की मौत

3,349 अन्य यात्री रेल हादसे में घायल हो गए

SHARE

सरकारी रेलवे पुलिस (जीआरपी) के आंकड़ों में उपनगरीय रेलवे पटरियों पर हुई मौतों की चौंकाने वाली संख्या के बारे में पता चला है। आंकड़ों से पता चला कि 2018 में 2,981 यात्रियों की मौत हुई और 3,349 अन्य घायल हुए।

पटरियों को पार करते समय या ट्रेन से गिरते समय 2,330 लोगों की मौत हो गई, जबकि जनवरी और अगस्त के बीच 1,974 लोगों की मौत हो गई, 2018 के अंतिम चार महीनों में 1,007 लोगों की जान चली गई और 522 लोगों की मौत रेलवे परिसर में प्राकृतिक कारणों से हुई। ।

रेलवे पटरियों पर ट्रसपासिंग मौत के मुख्य कारणों में से एक है, ट्रेनों की अधिक भीड़ होने के कारण भी हादसों की संख्या में काफी बढ़ोत्तरी हुई है। डेटा से पता चला है कि सबसे ज्यादा मौतें ट्रेसपासिंग के कारण हुई। ट्रेस पासिंग में कल्याण स्टेशन के पास 218 लोगों की मौत हो गई तो वही ठाणे, कुर्ला और बोरिवली पर भी कई लोगों की मौत हो गई है।

2018 में 363 महिला यात्रियों की मौत हो गई थी तो वही साल 2017 में 300महिला यात्रियों की मौत हुई थी।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें