Advertisement

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला , निजता नागरिकों का मौलिक अधिकार !


सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला , निजता नागरिकों का मौलिक अधिकार !
SHARES

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को एक अहम फैसला सुनाते हुए कहा की राइट टू प्राइवेसी नागरिकों का मौलिक अधिकार है। चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने अपने फैसले में कहा कि निजता भारत के नागरिकों का मौलिक अधिकार है। जिसके बाद अब आधार कार्ड सहीत कई डिजीटल जानकारियां अब सार्वजनिक प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध नहीं होगी।

संविधान पीठ के नौ जजों की बेंच ने सुनाया है। निजता का अधिकार पर सुप्रीम कोर्ट में पिछलें कई महीनों से बहस चल रही थी। सुप्रीम कोर्ट में कुल 21 याचिकाएं इस बाबत दायर की गई थी। कोर्ट ने 2 अगस्त को इस मसले पर फैसला सुरक्षित रखा था।

गौरतलब है की दरअसल 1950 में 8 जजों की बेंच और 1962 में 6 जजों की बेंच ने कहा था कि 'राइट टु प्राइवेसी' मौलिक अधिकार नहीं है।

डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दे) 

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें