काली पीली टैक्सियों में इंडिकेटर का विरोध

मुंबई टैक्सीमैन यूनियन ने इसका विरोध किया है

SHARE

यात्रियों की सुविधाओं को देखते हुए ट्रांसपोर्ट ऑफिस ने फरवरी से आनेवाली काली पीली टैक्सियों में इंडिकेटर लगाने का फैसला किया है। हालांकी अब इसका विरोध भी होना शुरु हो गया है। टैक्सी एसोसिएशन ने रूफलाइट इंडिकेटर का विरोध किया है। इसके अलावा, टैक्सी संगठनों इसके लिए विरोध करने का भी संकेत दिया है। मुंबई टैक्समेन यूनियन ने पत्र में उल्लेख किया है कि पिछले 3 वर्षों में टैक्सी ड्राइवरों की मांगों को अनदेखा किया गया है।



 मुंबई टैक्सीमैन यूनियन (MTU) इस कदम का विरोध कर रही है, जिसके अगले महीने से लागू होने की संभावना है।मुंबई सिटी टैक्सी को मोबाइल ऐप-आधारित टैक्सियों पर अंकुश लगाने और टैक्सी को-ऑर्डिनेटर प्लेटफार्मों को काले और पीले टैक्सी ऑपरेटरों को प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया था। ट्रांसपोर्ट कमिश्नर शेखर चन्ने को लिखे पत्र में एमटीयू के नेता ए एल क्वाड्रोस ने कहा है कि मुंबई में टैक्सी चलाने वालों पर इन संकेतकों को लगाने के प्रस्ताव का संघ पुरजोर विरोध कर रहा है।

इसके अलावाशेयर टैक्सी योजना के तहत या हवाई अड्डों और रेलवे स्टेशनों के पास प्रीपेड टैक्सियों के रूप में बड़ी संख्या में सिटी टैक्सियाँ चलती हैं, और इन्हें छत के संकेतों की आवश्यकता नहीं होती है। पत्र में कहा गया है, "हम आपसे अनुरोध करते हैं कि मीटर टैक्सी (ऑन होल्डपर रूफटॉप इंडिकेटर लाइट को ठीक करने के प्रस्ताव को तब तक जारी रखें जब तक कि उपरोक्त मुद्दों पर चर्चा न हो जाए और उचित राहत दी जाए।"

इससे पहलेइस विचार को 2012 में प्रस्तावित किया गया था और जनवरी 2014 में गति प्राप्त हुई जब परिवहन विभाग ने सार्वजनिक अधिसूचना को आमंत्रित करते हुए एक मसौदा अधिसूचना जारी की। लेकिन यह मांग पांच साल के लिए टल गई कि साइन अंग्रेजी और मराठी दोनों में होना चाहिए।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें