...इनके नाम बदले पर पहचान वही!

 Mumbai
...इनके नाम बदले पर पहचान वही!

नाम बदलने का चलन काफी पहले से है। कोई वास्तु के हिसाब से अपना नाम बदलना चाहता है, तो किसी को अपना नाम बहुत बड़ा लगता है या फिर समय के अनुकूल नहीं लगता इसलिए वह अपना नाम बदलना चाहता है। नाम बदलने के चलन में बॉलीवुड सितारे काफी आगे हैं। एक्टर अक्षय कुमार का असली नाम राजीव भाटिया, अजय देवगन का विशाल देवगन और प्रीति जिंटा का नाम प्रीतम जिंटा था। जिस तरह से बॉलीवुड सितारों ने अपने नाम बदले उसी तरह से मुंबई शहर ने खुद के नाम के साथ साथ ऐतीहासिक जगहों के नाम बदले हैं। मुंबई शहर का 1995 के पहले का नाम बंबई था। पर शिवसेना प्रमुख बालासाहेब ठाकरे की कोशिशों के चलते इस शहर का नाम मुंबई पड़ा।


विक्टोरिया टर्मिनस - छत्रपती शिवजी महाराज टर्मिनस 

मुंबई का सबसे बड़ा और पुराना रेलवे स्टेशन छत्रपती शिवाजी महाराज टर्मिनस (CSTM) है। इस रेलवे स्टेशन की शुरुआत 1888 में हुई थी। अंग्रेजों ने इसका नाम विक्टोरिया टर्मिनस रखा था। 1996 में इस ऐतिहासिक स्टेशन को छत्रपती शिवाजी महाराज टर्मिनस नाम दिया गया। इसके देखने के लिए विदेशी सैलानी भी आते हैं।  


विक्टोरिया गार्डन - जीजामाता उद्यान


जीजामाता उद्यान मुंबई का पहला चिड़िया घर है। आज के समय में यहां पर ज्यादातर लोग पेंग्वेन को देखने आते हैं। इस चिड़िया घर की स्थापना 1861 में हुई थी। उस समय इसका नाम विक्टोरिया गार्डन था। पर बाद में इसका नाम बदलकर जीजामाता उद्यान रखा गया। कई लोग इसे रानी बाग के नाम से भी जानते हैं। यह भायखला रेलवे स्टेशन के पास में है।  


हैंगिंग गार्डन - फिरोजशाह मेहता उद्यान


वैसे तो हैंगिंग गार्डन का नाम बदलकर फिरोजशाह मेहता उद्यान रखा गया है, फिर फिर भी ज्यादातर लोग इसे हैंगिंग गार्डन के नाम से ही जानते हैं। यह गार्डन मलबार हिस की चोटी पर स्थित है। इसकी स्थापना 1881 में हुई थी। यहां पर तरह तरह की घांस और फूल देखने को मिलेंगे, साथ ही जानवरों के आकार की झाड़ियां भी देखने को मिलेंगी। शाम के वक्त यहां का नजारा काफी सुहावना होता है।


प्रिंस ऑफ वेल्स म्यूजियम - छत्रपती शिवाजी महाराज वस्तुसंग्रहालय


छत्रपती शिवाजी महाराज वस्तुसंग्रहालय महाराष्ट्र का बड़ा संग्रहालय है। यहां पर देशभर से लोग आते हैं। इसकी स्थापना गेटवे ऑफ इंडिया के पास 1922 में हुई थी। उस समय इस म्यूजियम का नाम प्रिंस ऑफ वेल्स म्यूजियम था। 1998 में इसका नाम बदलकर शिवाजी महाराज वस्तुसंग्रहालय रखा गया।  


बोरीवली नेशनल पार्क - संजय गांधी नेशलन पार्क


संजय गांधी नेशलन पार्क 1942 में अस्तित्व में आया है। यह मुंबई का सबसे बड़ा पार्क है। यहां पर लोगों के घूमने के लिए मिनि ट्रेन की भी सुविधा दी गई है। इस पार्क को पहले बोरीवली नेशनल पार्क के नाम से जाना जाता था। 1996 में इसका नाम इंद्रा गांधी के बेटे संजय गांधी के नाम पर संजय गांधी नेशनल पार्क रखा गया।


सहार इंटरनेशनल एयरपोर्ट - छत्रपती शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा


छत्रपती शिवाजी इंटरनेशनल एयरपोर्ट देश का दूसरा सबसे व्यस्ततम एयपोर्ट है। इसका आरंभ 1942 में हुआ था। यह सांताक्रुज और विले पार्रे के बीचों बीच स्थित है। इस एयरपोर्ट को पहले सहार इंटरनेशनल एयरपोर्ट के नाम से जाना जाता था बाद में इसका नाम बदलकर छत्रपती शिवाजी इंटरनेशनल एयरपोर्ट रखा गया। हालांकि 1916 में इसके नाम में महाराष्ट्र सरकार ने ‘महाराज’ भी जोड़ा।  

लगभग 3 महीने पहले शुरु हुए राम मंदिर स्टेशन का नाम ओशीवारा स्टेशन होने वाला था। पर राजनैतिक पार्टियों के दबाव में इसका नाम राम मंदिर रखा गया। वर्तमान में एलफिस्टन रोड स्टेशन को प्रभादेवी, दादर को विठ्ठल मंदिर और मरीन लाइन्स को मुंबादेवी नाम दिए जाने की मांग जोरों पर है।  


यह भी पढ़ेंः जब दहेज में मिली थी मुंबई!

Loading Comments