शिक्षा से वंचित दो बच्चे !

 Mira Bhayandar
शिक्षा से वंचित दो बच्चे !

मुंबई से सटे मीरा रोड में एक महंगे और हाई क्लास आरबीके स्कूल की मनमानी और छोटी सोच का मामला सामने आया है । 6 साल की स्कूल की बच्ची अदिति नायक को स्कूल के पहले दिन बैग में चिठ्ठी भरकर वापस भेजा गया की उसे स्कूल से निकाल दिया गया है।

करीब 10 दिन पहले अदिती के भाई को अनुशाशनहीन बताकर स्कूल से निकाल दिया गया। दोनों बच्चो के माता पिता का आरोप है की उन्होंने स्कूल की मनमानी फीस बढ़ोत्तरी का विरोध किया था जिसका बदला बच्चो से लिया जा रहा है ।

स्कूल की जगह घर में पढ़ने को मजबूर है यह 2 मासूम। 6 साल की अदिति नायक और उसका भाई आर्यन नायक स्कूल जाना चाहते है , पढ़ना चाहते है , दोस्तों के साथ खेलना चाहते है। इन बच्चो के पास स्कूल यूनिफार्म , स्कूल बैग , स्कूल की किताबे , जुते सब कुछ है, अगर कुछ नहीं है तो स्कूल की इजाजत। दरअसल अदिति और उसका भाई आर्यन को मीरा रोड की आरबीके स्कूल से अलग - अलग कारण बताकर निकाल दिया गया है। स्कूल के पहले दिन अदिती को लाइब्रेरी में, दूसरे दिन रिसेप्शन रूम और तीसरे दिन एक कमरे में बिठाकर रखा गया पर क्लासरूम में नहीं बैठने दिया गया।

अदिति को स्कूल से निकाले जाने के डेढ़ महीने बाद उसके भाई आर्यन को यह कहकर निकाल दिया गया की आर्यन मस्ती करता है।अदिति और आर्यन के पिता आकाश नायक का आरोप है की पिछले सत्र में उन्होंने स्कूल की मनमानी फीस बढ़ाने का विरोध किया था । इस स्कूल फीस विरोध में सैकड़ो लोग थे लेकिन जिन्होंने स्कूल की बात नहीं मानी उनके बच्चो को ट्रॉंसफर सर्टिफिकेट पकड़ा दिया गया । अदिति और आर्यन के पिता आकाश नायक फीस विरोध पर डटे रहे तो उनके बच्चो को स्कूल से निकालकर बदला लिया गया |

आरबीके स्कूल का कहना है की आर्यन नायक के अभिभावक को शोकॉज नोटिस जारी किया गया था जिसमे कहा गया था की आर्यन को स्कूल से क्यों ना निकाला जाए , जिसका जवाब नहीं मिलने पर आर्यन को स्कूल से निकाल दिया गया।

वही अदिति को स्कूल से निकाले जाने पर आरबीके स्कूल का कहना है की अदिति की फीस नहीं भरी गई और जो चेक दिया गया वो बाउंस हो गया ।
|एक तरफ जहा अभिभावक स्कूल से लेकर कोर्ट तक फीस बढ़ोत्तरी की लड़ाई लड़ रहे है , वही स्कूल प्रबंधन के रुख से बच्चे घर बैठे है । इस लड़ाई में यदि कोई पीस रहा है तो 2 मासूम बच्चे जिनकी पढाई और बचपना हर रोज़ मर रहा है ।


Loading Comments