8 महीने के लिए निलंबित हुए क्रिकेटर पृथ्वी शॉ ने मानी गलती


SHARE

भारतीय क्रिकेट के लिए एक बुरी खबर है। भारतीय क्रिकेट टीम के बल्लेबाज पृथ्वी शॉ को डोपिंग रोधी नियम के उल्लंघन के चलते 8 महीने के लिए निलंबित कर दिया गया है। यह निलंबन मार्च से लेकर नवंबर तक जारी रहेगा। शॉ को प्रतिबंधित पदार्थ के सेवन के कारण डोपिंग का दोषी माना गया है। यह पदार्थ आमतौर पर खांसी की दवाई में पाया जाता है। शॉ के अलावा राजस्थान के क्रिकेटर दिव्य गजराज को और विदर्भ के भी एक खिलाड़ी अक्षय दुलारवर को भी 6 महीने के लिए बैन किया गया है।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने मंगलवार को एक बयान जारी कर इस बात की जानकारी दी कि मुंबई क्रिकेट संघ से पंजीकृत पृथ्वी शॉ को डोपिंग के नियमों के उल्लंघन के कारण निलंबित कर दिया गया है।

शॉ ने 22 फरवरी, 2019 को सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के दौरान अपना सैम्पल दिया था, जिसमें प्रतिबंधित पदार्थ के अंश पाए गए थे। 16 जुलाई, 2019 को शॉ को बीसीसीआई के डोपिंग रोधी नियमों (एडीआरवी) के उल्लंघन का दोषी पाते हुए निलंबति किया गया।

शॉ ने आरोपों को माना 
इस बारे में शॉ ने कहा कि, 'मुझे इससे सबक लेना होगा। हम खिलाड़ियों को बीमार होने पर किसी भी दवा को लेने में बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है, भले ही दवा काउंटर पर उपलब्ध हो तो भी प्रोटोकॉल का पालन करें। क्रिकेट मेरी जिंदगी है और भारत और मुंबई के लिए खेलने से बड़ा कोई सम्मान नहीं है और मैं इससे अधिक मजबूत बनूंगा।'


 आपको बता दें कि शॉ ने आखिरी इंटरनेशनल टेस्ट मैच वेस्ट इंडीज के खिलाफ हैदराबाद में खेला था। उन्होंने अब तक भारत के लिए दो टेस्ट खेले हैं। उनके नाम एक शतक और एक अर्धशतक दर्ज है। उन्होंने 2 टेस्ट में 118.50 की औसत से 237 रन बनाए हैं।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें