रवि शास्त्री फिर चुने गये टीम इंडिया के कोच

शास्त्री की ही कोचिंग में भारत, ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने वाली पहली एशियाई टीम बनी थी. यही नहीं उनकी ही कोचिंग में भारत वनडे वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल तक पहुंचा था।

SHARE

आखिर तमाम आशंकाओं के बीच एक बार फिर से रवि शास्त्री  भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच चुन लिए गये हैं। इस बात की जानकारी BCCI द्वारा दी गयी। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान कपिल देव की अध्यक्षता वाली क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) ने कोच के लिए इंटरव्यू लिया जिसमें रवि शास्त्री को चुना गया। कोच के लिए रवि शास्त्री सहित कुल छह नाम थे। जिसमें से रोबिन सिंह, माइक हेसन, लालचंद राजपूत, टॉम मूडी और  फिल सिमंस का नाम था। हालांकि सिमंस ने शुक्रवार को अपना नाम वापस ले लिया था। 

CAC की पहली पसंद 
इस बारे में पत्रकारों से बात करते हुए कपिल देव ने बताया कि टॉप थ्री में भारत के रवि शास्त्री के बाद ऑस्ट्रेलिया के टॉम मूडी और न्यूजीलैंड के माइक हेसन रहे थे, लेकिन CAC ने रवि शास्त्री को चुना। रवि शास्त्री के बाद दूसरे नंबर पर न्यू जीलैंड के माइक हेसन और तीसरे नंबर पर ऑस्ट्रेलिया के टॉम मूडी थे।

यही नहीं अगले अगले दो सालों में टीम इंडिया को लगातार दो वर्ल्ड टी-20 में खेलना है इसीलिए सीएसी ने शास्त्री को ही कोच बना कर टीम के साथ ज्यादा छेड़छाड़ न करने का फैसला किया है। शास्त्री अगले 2 साल यानि 2021 तक टीम इंडिया की कमान संभालेंगे।

कप्तान विराट कोहली भी शास्त्री के पक्ष में
इसके पहले भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने भी रवि शास्त्री को फिर से कोच बनाये जाने की वकालत की थी। भारतीय टीम के वेस्ट इंडीज दौरे पर जाने से पहले एक प्रेस कॉन्फ्रेंस ने विराट कोहली ने कहा था कि अगर शास्त्री फिर से भारतीय टीम को अपनी सेवा देते हैं तो यह उनके लिए ख़ुशी की बात होगी।

मौजूदा कोच रवि शास्त्री इस पद के लिए सबसे मजबूत दावेदार माने जा रहे थे। वे 2014 से लेकर 2016 तक भारतीय टीम के निदेशक भी रहे थे, जबकि 2017 में अनिल कुंबले के पद से हटने के बाद उन्हें टीम का मुख्य कोच बनाया गया था। 

बेहतरीन रिकॉर्ड 
आपको बता दें कि जुलाई 2017 में शास्त्री ने टीम के कोच का पद संभाला था। उनके कोच रहते हुए टीम इंडिया ने 52.38 के औसत से 21 में से 13 टेस्ट मैचों में जीत हासिल की थी साथ ही इंटरनैशनल टी-20 में 36 में से 25 मैच जीते हैं। इस जीत का औसत 69.44 है. जबकि एक दिवसीय मैचों में बेहतरीन रिकॉर्ड बनाते हुए 71.67 की औसत से  60 में से 43 मैच जीते हैं।

शास्त्री की ही कोचिंग में भारत, ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने वाली पहली एशियाई टीम  बनी थी. यही नहीं उनकी ही कोचिंग में भारत वनडे वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल तक पहुंचा था।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें