Advertisement

391 स्थानीय निकायों के लिए सीवेज उपचार को इजाजत

राज्य के 391 शहरी स्थानीय निकायों (corporation body) के अधिकार क्षेत्र में प्रति दिन लगभग 9758.57 मिलियन लीटर सीवेज उत्पन्न होता है।

391  स्थानीय निकायों के लिए सीवेज उपचार को इजाजत
SHARES
Advertisement

महाराष्ट्र मंत्रिमंडल(maharashtra cabinet)  ने बुधवार को राज्य भर में 391 स्थानीय निकायों में सीवेज उपचार( sewage line)  के पहले चरण को मंजूरी दी।  राज्य के 391 शहरी स्थानीय निकायों (corporation body) के अधिकार क्षेत्र में प्रति दिन लगभग 9758.57 मिलियन लीटर सीवेज उत्पन्न होता है। जिनमें से 7747.24 मिलियन लीटर प्रतिदिन के लिए सीवेज ट्रीटमेंट( sewage treatment)  की सुविधा है जो कि 79% है लेकिन नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल(NGT)  के हालिया आदेश के अनुसार पर्याप्त नहीं है।

स्वच्छ भारत अभियान का भी अहम रोल
एनजीटी के आदेश के अनुसार अतिरिक्त 2011.91 मिलियन लीटर प्रतिदिन का सीवेज ट्रीटमेंट विकसित करना होगा।क्षमता वृद्धि के लिए 2,820 करोड़ रुपये की आवश्यकता होगी, जिसे राज्य सरकार केंद्र से AMRUT मिशन और महाराष्ट्र सुवर्णा जयंती नगरार्थन महा-अभियान(Mahaabhiyan)  के तहत मोप करने की उम्मीद करती है। राज्य मंत्रिमंडल(State cabinet) ने इस पहले चरण के लिए अपनी मंजूरी दे दी। दूसरे चरण में 391 शहरी स्थानीय निकाय क्षेत्रों में विकेन्द्रीकृत सेप्टेज प्रबंधन को रखा जाना है। उसी के लिए धन केंद्र के स्वच्छ भारत अभियान से जुटाया जाएगा।

आठ नए सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट प्रस्तावित

बृहन्मुंबई नगर निगम ने 12,000 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत के साथ आठ नए सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट प्रस्तावित किए हैं। विडंबना यह है कि बीएमसी(BMC)  का एक भी सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट देश भर के उन पौधों की सूची में शामिल नहीं है जो उच्च गुणवत्ता वाले ट्रीटेड सीवेज का उत्पादन करते हैं।

कुछ नवी मुंबई के पौधों का उल्लेख मिलता है। नवी मुंबई नगर निगम प्रति दिन 197 मिलियन लीटर का इलाज करता है और नागरिक निकाय को 2042 तक अपने अधिकार क्षेत्र में सीवेज की देखभाल करने की उम्मीद है।

यह भी पढ़े- दहिसर गांवठाण और कांदरपाडा के नागरिको को 20 साल बाद मिली राहत , दहिसर नदी पर पुल बांधने का कम शुरु

संबंधित विषय
Advertisement