SHARE

पुलिस का काम ही लोगों को न्याय दिलाना होता है। पुलीस की जिम्मेदारी तब और बढ़ जाती है जब न्याय से वंचित कोई गरीब या फिर महिला हो। लेकिन पुलिस के कुछ अधिकारी ऐसे भी है तो अपनी करतूतों के कारण पुरे पुलिस महकमे को हो बदनाम करते हैं। ऐसा ही एक मामला शिवाजी नगर पुलिस स्टेशन से जुड़ा हुआ है। इस मामले में एक पीड़ित महिला ने अपनी ससुराल वालों की प्रताड़ना से तंग आकर पुलिस से शिकायत की। शिवाजी नगर पुलिस स्टेशन के पुलिस उपनिरीक्षक जालिंदर मिसाल (57) ने कार्रवाई के बदले पीड़ित महिला से 4 हजार रिश्वत की मांग की। यही नहीं कार्रवाई करने के नाम पर जालिंदर पहले भी इस महिला से 10 हजार रूपये रिश्वत ले चूका था। अब जालिंदर शिकायत के बाद गिरफ्तार कर लिया गया है।

मिली जानकारी के अनुसार शिवाजी नगर में रहने वाली एक महिला अपने ससुराल की प्रताड़ना से तंग आ गयी थी। उसने पुलिस में शिकायत की तो पुलिस ने आईपीसी की धारा 498(अ) के तहत मामला दर्ज कर लिया, लेकिन मामला दर्ज करने के बाद भी पुलिस कोई कार्रवाई करने से बचती रही। कोई कार्रवाई न होते देख जब पीड़ित महिला ने उपनिरीक्षक जालिंदर मिसाल से इसकी शिकायत की तो मिसाल ने कार्रवाई करने के एवज में 10 हजार रूपये की मांग की। मरती क्या न करती, महिला ने किसी तरह से मिसाल को 10 हजार रूपये लाकर दिया। लेकिन कुछ दिन बाद मिसाल ने कार्रवाई के नाम पर पीड़ित महिला से फिर से 4 हजार रूपये की मांग की, जिसे देने में महिला ने असमर्थता जताई।

कुछ रास्ता सूझता नहीं देख थक हर कर महिला ने मिसाल की शिकायत एसीबी से की। एसीबी ने जाल बिछा कर शनिवार को मिसाल को महिला से 4 हजार रूपये रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया।


डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दें) 

 






संबंधित विषय
ताजा ख़बरें