टीनेज लड़की को चलती ट्रेन में से धक्का देने वाला चोर हुआ गिरफ्तार


SHARE

जुई नगर स्टेशन के करीब एक टीनेज लड़की को लोकल ट्रेन के नीचे फेंकने वाले नराधम को जीआरपी ने आखिरकार गिरफ्तार कर ही लिया। इस नराधम युवक का नाम संतोष केकाण है। संतोष ने पूछताछ में जीआरपी को बताया कि उसने चोरी के उद्देश्य से लड़की को नीचे धकेला था।

क्या था मामला?

3 दिसंबर की रात लगभग साढ़े 11 बजे 19 साल की ऋतुजा पनवेल से वाशी जाने के लिए लोकल ट्रेन में चढ़ी। रात होने के कारण लोकल में भीड़ काफी कम थी। जब ट्रेन 11:50 बजे नेरुल स्टेशन पहुंची तो डिब्बे में एक अज्ञात शख्स चढ़ा। ट्रेन में चढ़ने के बाद इस शख्स ने ऋतुजा पर हमला बोल दिया। यह शख्स ऋतुजा के पास से 2 मोबाइल, कान की बालियां छीन भागने लगा। उसे भागते देख ऋतुजा ने उसे पीछे से पकड़ लिया और चिल्लाने लगी।ऋतुजा को चिल्लाते देख शख्स ने उसे चलती ट्रेन से धक्का दे दिया। तब तक ट्रेन जुई नजर स्टेशन के करीब आ चुकी थी।

पुलिस ने लिया बयान

ट्रेन से गिरने पर ऋतुजा बुरी तरह से घायल हो गयी। अन्य डिब्बे जे यात्रियों ने ट्रेन की जंजीर खींच कर जीआरपी को इसकी सुचना दी। घायल ऋतुजा को तत्काल MGM अस्पताल ले जाया गया। पुलिस ने ऋतुजा के बयान के आधार पर हत्या का प्रयास और डकैती का मामला दर्ज कर चोर की तलाश शुरू कर दी।

तीसरी आंख ने पकड़वाया चोर को

तीसरी आंख कही जाने वाले CCTV की जांच जब जीआरपी ने जांच की तो फुटेज में पुलिस को चोर मानसरोवर स्टेशन पर एक इनोवा गाड़ी से उतारते हुए दिखाई दिया। गाड़ी के नंबर के आधार पर पुलिस गाडी के मालिक विपुल पाटिल के पास पहुंची। जब पुलिस ने विपुल से सम्बंधित शख्स के बारे में पूछा तो विपुल ने उसका नाम संतोष केकाण बताया। पुलिस ने तत्काल एक टीम का गठन किया और शहाड से संतोष को उसके घर से धार दबोचा, लेकिन संतोष पुलिस को चकमा देने में कामयाब हो गया और वह भाग निकला।

वाशी जीआरपी ने बताया कि मंगलवार को पुलिस को सुचना मिली कि संतोष शिल फाटा के पूजा पंजाब नामके होटल में है। वाशी जीआरपी ने वरिष्ठ पुलीस निरीक्षक सुरेश पाटील ने तत्काल अपनी टीम के साथ गए और संतोष को गिरफ्तार कर लिया।




संबंधित विषय
ताजा ख़बरें