पुलिस हिरासत में मौत, जुहू के 4 पुलिसकर्मी निलंबित

29 मार्च 2020 की रात को देवेंद्र अपने रिश्तेदार के यहां जा रहा था। पुलिस ने उसका पीछा करके पकड़ा था। फिर उसे पुलिस स्टेशन ले गए थे। दूसरे दिन देवेंद्र को अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

पुलिस हिरासत में मौत, जुहू के 4 पुलिसकर्मी निलंबित
SHARES


राजू देवेंद्र (raju devendra) यह नाम याद है आपको। अगर नहीं, तो बता देते हैं कि राजू देवेंद्र वही युवक है जिसे पुलिस ने मार्च महीने में यानी लॉकडाउन (lockdown) के दौरान बाहर घूमते हुए पाया था, और उसकी इतनी पिटाई की थी कि उसकी मौत हो गयी थी। अब उस मामले में 4 पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। यह मामला जुहू पुलिस स्टेशन (juhi police station) का था। इस मामले में शिकायतकर्ता राजू का भाई मनिकम वेलु देवेंद्र है।

बता दें कि, राजू अपने परिवार के साथ विलेपार्ले के नेहरू नगर इलाके में रहता था। 29 मार्च 2020 की रात को देवेंद्र अपने रिश्तेदार के यहां जा रहा था। पुलिस ने उसका पीछा करके पकड़ा था। फिर उसे पुलिस स्टेशन ले गए थे। दूसरे दिन देवेंद्र को अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। राजू के भाई मणिकम वेलु देवेंद्र ने आरोप लगाया था कि राजू की मौत पुलिस द्वारा अमानवीय ढंग से पिटाई के कारण हुई है। बाद में मामला बढ़ने पर विभागीय जांच बिठा दी गई। जिसमें चार पुलिस वालों को आरोपी बनाया गया था।

जबकि इस मामले में पुलिस ने दावा किया था कि देवेंद्र की मौत भीड़ की हिंसा के कारण हुई है। क्योंकि वह लोगों को लूट रहा था। 

पुलिस राजू के भाई मनिकम वेलु के भाई के आरोप को झूठा बता रही थी। पुलिस का कहना था कि राजू रात के समय लोगों के साथ लूट की घटना को अंजाम देता था।

जबकि राजू के भाई का कहना था कि राजू को जब अस्पताल में दाखिल किया गया तो उसके शरीर की वीडियो रिकॉर्डिंग हुई थी, जिसमें जख्म के निशान देखे जा सकते हैं। राजू के भाई मनिकम वेलु देवेंद्र ने अपने भाई की हत्या करने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की थी।

घटना के अनुसार जांच का आदेश दिया गया था।  इस मामले में पुलिस कांस्टेबल संतोष गणपतिराव देसाई, आनंद गायकवाड़, दिगंबर चव्हाण और अंकुश पालवे को दोषी पाया गया।  उनके खिलाफ जुहू पुलिस स्टेशन में धारा 302, 141, 142, 143 और 144, 147 के तहत मामला दर्ज किया गया है और उन्हें सेवा से निलंबित कर दिया गया है।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय