पूर्व राज्य राजस्व मंत्री के नाम पर जमीन घोटाला

शिकायतकर्ता का कहना है की आरोपी ने उसे बताया की उसकी पहचान तात्कालिन राज्स्व मंत्री बाला साहेब थोराट तक है और वह उसे जमीन काफी सस्ते भाव में दे सकता है

SHARE

राज्य में हाल के दिनों में कई घोटालें सामने आये है। एसी में अब एक और नाम जुड़ता दिख रहा है। पूर्व राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात के नाम पर एक और घोटाला सामने आया है। हालांकि, पूर्व राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात का इस घोटाले से कुछ भी लेना देना नहीं है। बालासाहेब थोरात के नाम पर राज्य में एक जमीन घोटाला किया गया है। पुलिस ने इस मामले में सोलापुर के संतोष दगडू मंजरे (48) को गिरफ्तार किया है।

क्या है मामला
सोलापुर के मोहोल गाँव के रहने वाले संतोष दगडू मंजरे (48) की पहचान 2016 में शिकायतकर्ता खुशलचंद पुणेकर से हुई। खुशलचंद, पुणे के बड़े व्यापारियों में से एक है। खुशलचंद साल 2016 में जमीन की खोज कर रहे थे। उस समय संतोष ने खुशलचंद की पहचान वनमाला खरात से की। वनमाला ने खुशलचंद को कहा की उसकी पहचान तात्कालिन राज्स्व मंत्री बाला साहेब थोराट से है और बारामती में एक सरकारी जमीन को वह उसे पांच लाख 36 हजार रुपये में दे सकती है हालांकी इस काम के लिए कुल सात लाख 15 हजार रुपये खर्च होंगे।

शिकायत कराई दर्ज
वनमाला ने खुशलचंद से साल 2016 में 6 लाख रुपये ले लिये लेकिन उसे जमीन नहीं मिले , जिसके बाद साल 2017 में खुशलचंद ने गोवंडी पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया और इस संबंध में आरोप पत्र दायर किया गया। इस मामले में मंजरे ने 2017 में अग्रिम जमानत के लिए आवेदन किया था। लेकिन 13 दिसंबर 2017 को हाईकोर्ट ने अर्जी खारिज कर दी और पुलिस उसकी तलाश कर रही थी।

मांजरे के खिलाफ सोलापूर, लोणंद में भी मामले दर्ज है। आजाद मैदान पुलिस में भी मांजरे के खिलाफ एक मामला दर्ज है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें