SHARE

'पूत कपूत सुने है न माता सुने कुमाता', इस लाइन को अकसर हम दुर्गा माता की आरती में गाते हैं जो माता के महत्व को बताता है। लेकिन भिवंडी में एक कलियुगी मां ने गुस्से में आकर मात्र छह महीने के छोटे से बच्चे ऋषभ की हत्या इसीलिए कर दी क्योंकि बच्चा लगातार रोये जा रहा था जो चुप होने का नाम नहीं ले रहा था। इस कलियुगी मां का नाम कल्पना नीलेश गायकर (25) है।
 
क्या था मामला?
बताया जाता है कि बुधवार को कल्पना अचानक जोर जोर से रोने का नाटक करने लगी। जब आसपास के लोग उसके घर आए तो उसने बताया कि उसक बच्चा हिल डुल नहीं रहा है। जब बच्चे को नजदीकी अस्पताल ले जाया गया तो डॉक्टरों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया गया। सभी ने सोचा कि बच्चे की मौत किसी दुर्घटना के कारण हुई होगी। लेकिन जब दो दिन बाद बच्चे की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई तो सभी हैरान रह गए। रिपोर्ट में बच्चे की मौत की वजह पानी में डूबना बताया गया था।


मां ही निकली हत्यारन 
इसके बाद जब पुलिस ने कल्पना से कड़ाई से पूछताछ की तो कल्पना से सारी सच्चाई उगल दी। पुलिस ने बताया कि ऋषभ हमेशा बीमार रहा करता था जिससे वह हमेशा रोया करता था। इसी से परेशान होकर कल्पना ने ऋषभ को पानी में डूबा कर मार दिया। अब कल्पना पुलिस की गिरफ्त में है और पुलिस कल्पना के खिलाफ आगे की कार्रवाई कर रही है।

पढ़ें: अप्राकृतिक सेक्स के बाद कर दी मजदूर की हत्या

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें