सोशल मीडिया पर बड़े लोगों का फर्जी प्रोफ़ाइल बना कर गलत काम करने वाला गिरफ्तार

जांच में CIU पुलिस ने अविनाश को कुर्ला के गौरीशंकर नगर इलाके से गिरफ्तार किया। अदालत ने उसे 17 जुलाई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है।

सोशल मीडिया पर बड़े लोगों का फर्जी प्रोफ़ाइल बना कर गलत काम करने वाला गिरफ्तार
SHARES


मशहूर हस्तियों के नाम से सोशल मीडिया में फर्जी प्रोफाइल बनाकर लोगों के साथ ठगी करने वाले एक अंतरराष्ट्रीय गिरोह का खुफिया विभाग ने पर्दाफाश किया है। प्रसिद्ध गायक भूमि त्रिवेदी (bhumi trivedi) द्वारा दर्ज की गई शिकायत के बाद पुलिस जांच में यह सब सामने आया है।पुलिस ने इस मामले में कुर्ला इलाके से अविनाश दवडे (21) नामके एक आरोपी को गिरफ्तार किया है।

आज के जमाने में सोशल मीडिया (social media) न केवल पैसा कमाने का एक माध्यम बन गया है, बल्कि मनोरंजन का भी एक अच्छा साधन है। अगर आप फेसबुक (facebook), इंस्टाग्राम(instagram), यूट्यूब (youtube), ट्विटर (twitter) पर बहुत से लाइक, कमेंट और फॉलोअर्स (followers) बनाते हैं, तो आपको इसके लिए पैसे मिलते हैं। इन फॉलोवर्स को एक विशिष्ट लेकिन अवैध एप्लिकेशन के माध्यम से बढ़ाया जाता है। यह मामला भी ठीक इसी तरह का है। आरोपी अविनाश ने प्रसिद्ध गायक भूमि त्रिवेदी के नाम पर इंस्टाग्राम पर एक नकली प्रोफ़ाइल बनाया। कर उसके फॉलोवर्स अवैध तरीके से बढ़ा रहा था। यह बात किसी तरह से भूमि त्रिवेदी को पता चली। उन्होंने इसकी शिकायत पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह (parambeer singh) से मुलाकात करके की। आयुक्त के आदेश के बाद, बांगुर नगर पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज की गई और क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट (CIU) पुलिस ने एक जांच शुरू की। अपनी जांच में CIU पुलिस ने अविनाश को कुर्ला के गौरीशंकर नगर इलाके से गिरफ्तार किया। अदालत ने उसे 17 जुलाई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है।

जांच के दौरान पता चला कि, आरोपी अविनाश वेबसाइट 'फॉलोअर्स कार्ट' के लिए काम करता है। एक पीआर कंपनी में काम करते हुए वह इस app के बारे में जानकारी हासिल कर ली थी। अभिषेक ने तत्काल पैसा कमाने की उम्मीद में यह गोरखधंदा शुरू किया। यह एक अंतरराष्ट्रीय धोखाधड़ी रैकेट का हिस्सा निकला।  ये रैकेट सोशल मीडिया पर लाखों फर्जी पहचान और फर्जी फॉलोअर, फर्जी कॉमेंट्स, फर्जी लाइक, फर्जी व्यूज बना सकते हैं। 

आरोपी अविनाश ने अब तक इंस्टाग्राम, टिकटॉक, फेसबुक जैसे सोशल मीडिया पर 176 फर्जी प्रोफाइल बनाकर पांच लाख से अधिक फर्जी फॉलोअर बना लिए थे। फर्जी ऐप के माध्यम से, फॉलोवर्स को कृत्रिम रूप से बढ़ाया जा सकता है। ताकि प्रोफाइल लोगों को आकर्षित कर सके।  इसके लिए विशिष्ट सॉफ्टवेयर (बॉट्स) बनाया गया था।  उसने सोशल मीडिया सिस्टम में हेराफेरी करके अपना एक अलग सिस्टम तैयार किया था।  यह भारत में पहली बार है कि किसी व्यक्ति को ऐसे अपराध के तहत गिरफ्तार किया गया है। वर्तमान में ऐसे 100 से अधिक पोर्टल हैं।  पुलिस ने सोशल मीडिया पर 54 से अधिक लोगों को ट्रैक किया।

संबंधित विषय