छेड़छाड़ के आरोप में घिरे नाना पाटेकर के खिलाफ पुलिस को नहीं मिला सबूत, तनुश्री के वकील ने कहा- हार नहीं मानेंगे!

पुलिस ने इस मामले में बी समरी फाइल की है। बी समरी का मतलब होता है कि पुलिस को आरोपी के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिल रहे हैं।

SHARE

बॉलीवुड एक्ट्रेस तनुश्री दत्ता यौन उत्पीड़न मामले में एक्टर नाना पाटेकर को बड़ी राहत मिली है। ओशिवरा पुलिस इस मामले में कोई भी सबूत ढूंढने में नाकामयाब रही है। पुलिस ने इस मामले में बी समरी फाइल की है। बी समरी का मतलब होता है कि पुलिस को आरोपी के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिल रहे हैं। इस मामले में जहां नाना पाटेकर को बड़ी राहत मिलेगी, तो वहीं नुश्री दत्ता के वकील का कहना है कि वे हार नहीं मानेंगे और आगे भी अपील करेंगे।

2018 में मीटू मूवमेंट के तहत तनुश्री दत्ता ने नाना पाटेकर पर उनसे गलत व्यवहार करने और छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया था। इस केस की सुनवाई आज हुई। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक मुंबई पुलिस ने तनुश्री दत्ता और नाना पाटेकर के केस में 'बी समरी' रिपोर्ट तैयार कर ली है। यह 'बी समरी रिपोर्ट' पुलिस तब दायर करती है, जब पुलिस आरोपों के संबंध में कोई सबूत न जुटा पाए और आगे मामले की जांच करना संभव न हो। 

इससे पहले सोशल मीडिया पर नाना पाटेकर को क्लीन चिट देने की खबर चल रही थी। जबकि उस समय मुंबई पुलिस ने ऐसा कोई भी बयान नहीं दिया था। इसको लेकर तनुश्री ने कहा था किनाना पाटेकर की टीम इस तरह की झूठी खबरें फैला रही है और नाना पाटेकर और उनके लोग गवाहों के बयान रिकॉर्ड करने से उन्हें रोक रहे हैं, धमका रहे हैंl

पिछले साल मीटू अभियान ने देश में काफी जोर पकड़ा था। भारत में इस अभियान की शुरुआत तनुश्री ने ही की थी और नाना पाटेकर पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। इस अभियान के जरिए कई महिलाएं सामने आई थीं और यौन शोषण और छेड़छाड़ के आरोपों का खुलासा किया था।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें