भुजबल की जमानत याचिका का ईडी ने किया कड़ा विरोध


SHARE

मनी लॉन्ड्रिंग और भ्रष्टाचार के मामले में एनसीपी नेता और पूर्व उप मुख्यमंत्री छगन भुजबल पिछले दो साल से जेल में हैं। इस दौरान उन्होंने जमानत के लिए कई बार याचिका दायर की लेकिन उनकी याचिका को हर बार ठुकरा दिया गया। मंगलवार को भी प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) कोर्ट में भुजबल की जमानत याचिका की सुनवाई हुई। इस सुनवाई में ईडी के वकील ने भुजबल की जमानत याचिका को असंवैधानिक करार देते हुए जमानत याचिका का विरोध किया। अब इस मामले में अगली सुनवाई गुरूवार को होगी।

SC ने किया पीएमएलए की धारा 45 अमान्य

इसके पहले सुप्रीम कोर्ट ने एक दूसरी सुनवाई में यह कहा था कि पीएमएलए की धारा 45 अब अमान्य है इसीलिए जिन दोषियों को जमानत नहीं मिली है अब वे दोषी भी जमानत के लिए अर्जी दे सकते हैं। इस फैसले के बाद भुजबल ने भी अपनी जामनत याचिका पीएमएलए कोर्ट में दायर की थी। सूत्रों के अनुसार पीएमएलए की धारा 45 संविधान में दिए गए नागरिकों की स्वतंत्रता के अधिकारों का हनन था इसीलिए कोर्ट ने उस धारा को ही अमान्य  कर दिया।

भुजबल की जमानत की मांग

मंगलवार को पीएमएलए कोर्ट में सुनवाई के दौरान भुजबल के वकील ने सुप्रीम कोर्ट के उस आदेश का हवाला दिया जिसमें पीएमएलए की धारा 45 को अमान्य कर दिया गया है, इस आधार पर भुजबल के जमानत की मांग की, लेकिन ईडी के वकील ने इस मांग की असंवैधानिक बताते हुए इसका विरोध किया।

ईडी ने किया विरोध

ईडी की तरफ से वकील वेणेगावकर ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने जिस पीएमएलए की धारा 45 को अमान्य किया है वह मनी लॉन्ड्रिंग को लेकर है, जबकि भुजबल के ऊपर भ्रष्टाचार का भी मामला है, इसीलिए जमानत की मांग असंवैधानिक है। अब इस मामले में अगली सुनवाई गुरूवार को होगी।

पूरा परिवार था उपस्थित

सुनवाई के दौरान भुजबल के समर्थक और उनका पूरा परिवार भी उपस्थित था। छगन भुजबल के करीबी प्रकाश सुर्वे उनकी पत्नी मीणा भुजबल, बेटा पंकज, दोनों बहुए विशाखा और शेफाली सहित अन्य रिश्तेदार भी मौजूद थे।

क्या है मामला 

छगन भुजबल पर दिल्ली स्थित न्यू महाराष्ट्र सदन के निर्माण और मुंबई के कालीना इलाके में एक निर्माण को लेकर घोटाले का आरोप है। भुजबल को ईडी ने पिछले साल 14 मार्च 2016 को गिरफ्तार किया था। वह तभी से मुंबई के ऑर्थर रोड जेल में बंद हैं। इस मामले में भुजबल के अलावा उनके बेटे पंकज भुजबल और भतीजे समीर भुजबल भी आरोपी हैं। अब तक ईडी ने भुजबल की 300 करोड़ रुपयों से ज्यादा की संपत्तियां जब्त कर चुका है। 






संबंधित विषय
ताजा ख़बरें