साहस और बुद्धि की मिसाल: चोरी हुआ मोबाइल तो 24 घंटे के अंदर मोबाइल और चोर दोनों को ढूंढ निकाला


SHARE

मुंबई के एक युवती ने साहस और अपनी बुद्धिमता का परिचय देते हुए न केवल 24 घंटे के अंदर अपना खोया मोबाइल वापस पाया बल्कि आरोपी मोबाइल चोर को गिरफ्तार करवाया। युवती का नाम जीनत बानो हक (19) है जो एक एक स्कूल में टीचर है। जबकि आरोपी मोबाइल चोर सेलवाराज शेट्टी (32) को उस समय पकड़ा गया जब वह अपने गांव जाने के लिए ट्रेन में बैठा हुआ था।


क्या था मामला?

मिली जानकारी के मुताबिक अंधेरी के मरोल में रहने वाले जीनत किसी काम से रविवार यानि 6 अगस्त को अंधेरी पूर्व गयी थी। वहां से लौटते समय जीनत को इस बात की जरा भी भनक नहीं लगी कि भीड़ का लाभ उठाते हुए उसका मोबाइल किसी ने चुरा लिया है। जब जीनत को इस बात की खबर लगी तो उसने एक दूसरे मोबाइल में दूसरे ऐंड्रॉयड मोबाइल से अपना गूगल अकाउंट लॉगिन किया और 'माय एक्टिविटी' नामके एक ऑप्शन पर जाकर चोरी हुए मोबाइल को ट्रेस करने लगी।

इस ट्रिक से चोर का लगा पता 

ट्रेस करने के कारण जीनत को मोबाइल चोर की लोकेशन से लेकर उसके द्वारा मोबाइल पर क्या-क्या सर्च और डाउनलोड किया जा रहा है यह सभी पता चल रहा था। इसी दौरान जीनत को यह भी पता चला कि उस मोबाइल चोर ने रेलवे टिकट बुक करने के लिए एक ऐप भी डाउनलोड किया। मोबाइल चोर ने दादर से तिरुवंतमलई जाने के लिए टिकट बुक किया था, यही नहीं उस चोर ने टिकट एक स्क्रीन शॉट लेकर उसे गैलरी में सेव भी कर लिया। माय एक्टिविटी से जीनत को इस बात को भनक तो लगी ही साथ ही उसे टिकट का स्क्रीन शॉट भी मिल गया। 

दादर से चोर हुआ गिरफ्तार

टिकट के अनुसार ट्रेन पुडुचेरी ऐक्सप्रेस थी और वह ट्रेन रविवार को रात में साढ़े नौ बजे दादर से छूटने वाली थी। रात के समय जीनत भी दादर स्टेशन पहुंच कर दादर जीआरपी को सारी बात बताई। इसके बाद जीआरपी ने जीनत के साथ मिलकर आरोपी की तलाशी शुरू की।

जब ट्रेन के छूटने का समय हुआ तो उसके पहले ही जीनत और जीआरपी वाले उस सीट के नंबर पर पहुंच गए जहां आरोप बैठा था। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर उसके पास से मोबाइल बरामद कर उसे जीनत को दे दिया। जीआरपी के अधिकारियों ने जीनत के इस साहस और बुद्धिमता की प्रशंसा भी की।
संबंधित विषय
ताजा ख़बरें