निर्भया गैंगरेप के बाद भी देश में नहीं रुक रहे बलात्कार के मामले

2018 में महिलाओं ने करीब 33,356 बलात्कार के मामलों की रिपोर्ट की

SHARE

दिल्ली में साल  2012 में हुए निर्भया गैंग रेप के बाद भी देश में बलात्कार की वारदाते कम नहीं हो रही है।  नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के मुताबिक  भारत में 2018 में औसतन हर रोज में 91 महिला ने बलात्कार की शिकायत दर्ज कराई। 'निर्भया' कांड के बाद देश में यौन हिंसा के मामले को लेकर सख्त कानून और फास्ट ट्रैक कोर्ट की मांग की गई थी।देश में निर्भया फंड भी बनाया गया। लेकिन इस फंड का इस्तेमाल तो कई राज्यो में हो ही नहीं पाया।  

एनसीआरबी के मुताबिक 2018 महिलाओं ने करीब 33,356 बलात्कार के मामलों की रिपोर्ट की। एक साल पहले 2017 में बलात्कार के 32,559 मामले दर्ज किए गए थे, जबकि 2016 में यह संख्या 38,947 थी।नसीआरबी के आंकड़ों के मुताबिक देश में दुष्कर्म के दोषियों को सजा देने की दर सिर्फ 27.2% है। 2017 में दोषियों को सजा देने की दर 32.2% थी।

मध्य प्रदेश मे सबसे ज्यादा बलात्कार

दुष्कर्म की घटनाओं के मामले में मध्यप्रदेश एक बार फिर शीर्ष पर है। वर्ष 2018 में राज्य में दुष्कर्म के 5433 मामले दर्ज हुए। इन आंकड़ों का सबसे दर्दनाक पहलू यह है कि इनमें 54 मामले ऐसे थे, जिनमें लड़की की उम्र 6 साल से कम थी। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) की बुधवार को जारी रिपोर्ट अनुसार वर्ष 2018 में देश में कुल 33 हजार 356 दुष्कर्म की घटनाएं हुईं। इनमें से 5433 या लगभग 16 प्रतिशत अपराध मध्यप्रदेश में घटित हुए। रिपोर्ट के मुताबिक 2018 में आधे से ज्यादा मामले ऐसे थे, जिनमें लड़की की उम्र 18 वर्ष से कम थी।

इस सूची में तीसरे नंबर पर रहे यूपी में दुष्कर्म की 3946 घटनाएं हुईं, जबकि इसके बाद महाराष्ट्र में 2142 घटनाएं हुईं। इस तरह के अपराध के मामले में पांचवें नंबर पर छत्तीसगढ़ (2091) रहा।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें