लॉकडाउन में आर्थिक तंगी का सामना कर रहे वड़ापाव विक्रेता ने की आत्महत्या

कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण देश भर में लॉकडाउन घोषित कर दिया गया। जिसके बाद से नाइक को भी अपना स्टाल बंद करना पड़ा।

लॉकडाउन में आर्थिक तंगी का सामना कर रहे वड़ापाव विक्रेता ने की आत्महत्या
SHARES

मुंबई (mumbai) के घाटकोपर (ghatkopar) इलाके से एक शख्स ने आत्महत्या कर ली। बताया जाता है यह शख्स बड़ापाव बेच कर अपना घर चलाता था, लेकिन लॉकडाउन (lockdown) के बाद से इसका भी धंदा बंद हो गया था। जिसके बाद से यह आर्थिक तंगी का सामना कर रहा था। इस मामले में पंतनगर पुलिस ने असामयिक मौत का मामला दर्ज किया है और पुलिस आगे की जांच कर रही है।

मिली जानकारी के मुताबिक घाटकोपर के गरोडिया नगर इलाके में रहने वाले सदानंद मुथा नाइक (60) का बांद्रा में वाडापाव का स्टाल था।  लेकिन कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण देश भर में लॉकडाउन घोषित कर दिया गया। जिसके बाद से नाइक को भी अपना स्टाल बंद करना पड़ा।

लेकिन मार्च महीने से लेकर अगस्त तक नाइक ने किसी तरह से बचे हुए पैसों से अपना घर चलाया। लेकिन इसके बाद समस्याएं बड़ी होती गयीं। घर की सभी जरूरतों को पूरा करने के लिए नाइक ने कर्ज लेना शुरू कर दिया। इसके बाद तो स्थिति और भी बदतर होती गई।

आखिरकार कोई अन्य चारा न देख मंगलवार को नाइक ने अपने घर केे बाथरूम की खिड़की से कूदकर आत्महत्या कर ली। नाइक के बॉडी को पोस्ट मार्टम के लिए राजावाड़ी अस्पताल (rajavadi hospital) ले जाया गया। पुलिस ने इस मामले में नाइक के बेटे का बयान दर्ज किया है और कहा है कि उसे किसी पर शक नहीं है।  

पुलिस ने कहा कि नाइक की कोरोना रिपोर्ट (Covid report) नकारात्मक आई है और उसके शव का जल्द ही पोस्टमार्टम कर दिया जाएगा। पंतनगर पुलिस ने इस मामले में असामयिक मौत दर्ज किया है।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय