Advertisement

इस बार दही हांडी का आयोजन होगा रद्द, गोविंदाओं ने की दहीहंडी की पूजा


इस बार दही हांडी का आयोजन होगा रद्द, गोविंदाओं ने की दहीहंडी की पूजा
SHARES


कोरोना वायरस ने आम हो या खास सभी लोगों के जीवन को एक तरह से ठप्प कर दिया है। चूंकि अब त्योंहारों का सीजन भी आ चुका है तो ऐसे में ये तीज त्योंहारों पर भी कोरोना वायरस का असर पड़ता दिखाई दे रहा है। महाराष्ट्र में धूमधाम से मनाया जाने वाला त्योहार जिससे मराठी नव वर्ष शुरू होता है, वह त्योहार भी सादगी से मनाया गया था।

गुडीपडवा के अवसर पर हर साल मुंबई के गिरगांव, ठाणे, डोंबिवली जैसे कई स्थानों पर रैलियाँ आयोजित की जाती हैं।  लेकिन, इसे इस साल रद्द कर दिया गया था। इसके अलावा, गोविंदा उत्सव भी रद्द करने का निर्णय लिया गया है। गोविंदा उत्सव के लिए गुरु पूर्णिमा के अवसर पर, मुंबई में दहीहंडी समूहों द्वारा पूजा शुरू किया जाता है। और गोविंदा दहीहंडी फोड़ने के लिए अभ्यास भी शुरू कर देते हैं। लेकिन इस साल कोरोना वायरस के कारण दहीहंडी उत्सव रद्द करने का निर्णय लिया गया है।

सामाजिक जागरूकता के साथ, इस वर्ष यह महोत्सव सार्वजनिक हित में और सादगी के साथ आयोजित किया जाएगा।  इस वर्ष, गुरुपूर्णिमा पर, मझगाँव के श्रीदत्त क्रीड़ा मंडल ने टाटा अस्पताल के रोगियों के लिए रक्तदान शिविर का आयोजन किया है। गुरुपूर्णिमा के मौके पर, दहीहंडी समन्वय समिति के अध्यक्ष बाला श्रीडेलकर और श्रीदत्त क्रीड़ा मंडल के कोच के नेतृत्व में दहीहंडी की पूजा की गई।

इस पूजा में दहीहंडी मंडली के कई गोविंदों ने पूजा में भाग लिया।  सभी गोविंदों ने रक्तदान भी किया। सामाजिक दूरी को ध्यान में रखते हुए, मझगाँव ताड़वाड़ी के जनता केंद्र में टाटा अस्पताल में कैंसर रोगियों के लिए एक रक्तदान शिविर आयोजित किया गया था।  इस शिविर में 100 से अधिक लोगों ने रक्तदान किया।

आपको बता दें कि इसके पहले मुंबई के कई बड़े मंडलों ने कोरोना वायरस को देखते हुए दहीहंडी उत्सव को नहीं मनाने का निर्णय लिया है। इसमें बीजेपी के नेता राम कदम की दहीहंडी सहित ठाणे जिले के भी कई बड़े मंडल शामिल हैं।

संबंधित विषय
Advertisement