मुंबई विश्वविद्यालय में जल्द मरम्मत का कार्य

मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन डेवलपमेंट अथॉरिटी (MMRDA) मुंबई विश्वविद्यालय की कुछ इमारतों को एक नया रुप दिया जाएगा और इसके साथ ही कैंपस में भी कई मरम्मत के काम किये जाएंगे।

SHARE

मुंबई विश्वविद्यालय को जल्द ही एक नये रुप में देखा जा सकेगा। मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन डेवलपमेंट अथॉरिटी (MMRDA) कलिना कैंपस के प्रमुख सुधार के लिए पूरी तरह से तैयार है। मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन डेवलपमेंट अथॉरिटी (MMRDA) मुंबई विश्वविद्यालय की कुछ इमारतों को एक नया रुप दिया जाएगा और इसके साथ ही कैंपस में भी कई मरम्मत के काम किये जाएंगे। 

मुंबई विश्वविद्यालय 1857 में स्थापित किया गया था और कलिना परिसर में 245-एकड़ में फैला हुआ है। अपनी स्थापना के बाद से, इसने कोई बड़ा पुनर्विकास नहीं देखा हैMMRDA इस काम को अलग अलग फेज में अंजाम देगा।  पहले फेज में छात्रों की सुविधा पर ध्यान दिया जाएगा। इन सुविधाओं में होस्टल ,विभाग का पुर्नविकास और पूरानी इमारतों के मरम्मत का काम किया जाएगा।  दूसरे फेज में शिक्षको की सुविधाओं के बारे में ध्यान दिया जाएगा।  

हर नए निर्माण मे सोलर पैनल का इस्तेमाल किया जाएगा।  इसके साथ ही रैनहार्वेस्टिंग  और वाटर मैनेजमेंट का भी बंदोबस्त किया जाएगा।  रानाडे भवन, लोकमान्य तिलक भवन और महात्मा ज्योतिराव फुले भवन में मरम्मत का काम भी किया जाएगा।

यह भी पढ़े- बीएमसी में 3 हजार करोड़ के प्रोजेक्ट प्रस्ताव पास 

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें

मुंबई विश्वविद्यालय में जल्द मरम्मत का कार्य
00:00
00:00