दसवीं की परिक्षा में अब नहीं होगा गणित और अंग्रेजी के ए, बी, सी , डी प्रश्नपत्र

राज्य शिक्षा बोर्ड ने अब परिक्षा में दसवीं के लिए चार अलग अलग प्रश्नपत्रों को देने का फैसला वापस ले लिया है।

SHARE

इस साल से 10वीं की परिक्षा में शिक्षा विभाग ने एक अहम फैसला किया है। राज्य शिक्षा बोर्ड ने अब परिक्षा में दसवीं के लिए चार अलग अलग प्रश्नपत्रों को देने का फैसला वापस ले लिया है। यानी की छात्रों को इस साल अंग्रेजी और गणित के चार अलग अलग प्रश्नपत्र नहीं मिलेगें। दरअसल शिक्षा विभाग ने छात्रों के बीच नकल को रोकने के लिए इस कदम को उठाया था, लेकिन अब इस फैसले को वापस ले लिया गया है।

इस परीक्षा से, अंग्रेजी दूसरी और तीसरी भाषा और गणित भाग 1 और भाग 2 के लिए केवल एक प्रश्न पत्र होगा। माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने इसकी घोषणा की है।

2004 से राज्य में कक्षा दसवीं और बारहवीं में अंग्रेजी, द्वितिय भाषा और गणित के लिए चार अलग अलग तरह के प्रश्नपत्र दिये जाते है। इसने कॉपी मामलों को कम कर दिया था। हालांकि, इस साल से, 'बाल भारती' ने कक्षा IX और X के लिए पाठ्यक्रम को फिर से डिजाइन किया है। पाठ्यपुस्तकों को बनाते समय कुछ प्रमुख रचनात्मक परिवर्तन किए गए हैं।


आनेवाले मार्च से ये फैसला लागू कर दिया जाएगा।


यह भी पढ़ेCM चषक कार्यक्रम में नाचते नाचते लड़की की अचानक मौत!

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें