SHARE

मुंबई – गरीब विद्यार्थियों को प्राईवेट स्कूलों में आरटीई के तहत एडमिशन देना होता है। लेकिन कई स्कूल इस कानून का पालन नहीं करते, जिससे काफी बच्चे को प्राईवेट स्कूलों में दाखिला नहीं मिलता। लेकिन अब बीएमसी ने एसे स्कूलों पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है। बीएमसी शिक्षक अधिकारी महेश पालकर ने कहा की जिन भी स्कूलों के खिलाफ इस तरह की शिकायत मिली है उनपर कार्रवाई की जाएगी। साल 2015-16 में 10 हजार सीटों में से सिर्फ 1 हजार 740 जगहों पर ही बच्चों को प्रवेश दिया गया था। तो वही साल 2016-17 में 9500 सीटों मे से सिर्फ 2536 सीटों को ही भरा गया । यानी अगर दोनों सालों को एक साथ मिलाया जाए तो लगभग 20 हजार सीटों में से सिर्फ 4276 सीटों पर ही बच्चों को प्रवेश दिया गया।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें