टीआईएफआर के 'फ्रंटियर्स ऑफ साइंस' वार्षिक समारोह का आयोजन 26 नवम्बर को

यह कार्यक्रम उन छात्रों को एक अच्छा मंच प्रदान करता है जो वैज्ञानिक अनुसंधान के साथ साथ भारत के प्रमुख अनुसंधान संस्थानों के विषय में जानना चाहते हैं.

SHARE

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (टीआईएफआर) की तरफ से "फ्रंटियर ऑफ साइंस" कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। यह कार्यक्रम 26 नवंबर रविवार को भाभा ऑडिटोरियम में सुबह 9 बजे से लेकर शाम 4 बजे तक आयोजित किया जाएगा।

हर साल आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में 9 वीं और 10 वीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्रों के अलावा शिक्षक भी हिस्सा लेते हैं। इस कार्यक्रम में मुंबई और उसके आसपास के 100 से अधिक स्कूलों के करीब 1700 छात्र और शिक्षको के पहुंचने की आशा जताई जा रही है। इस कार्यक्रम में आईएफआर के अत्याधुनिक अविष्कार और सुविधाओं का प्रदर्शन किया जाएगा।

विज्ञान के छात्रों के लिए अवसर

इस कार्यक्रम विज्ञान का एक बहुत बड़ा उत्सव माना जा रहा है। यह कार्यक्रम उन छात्रों को एक अच्छा मंच प्रदान करता है जो वैज्ञानिक अनुसंधान के साथ साथ भारत के प्रमुख अनुसंधान संस्थानों के विषय में जानना चाहते हैं। यहां 40 से अधिक प्रयोगशालाएं भी होंगी जहां प्रशिक्षित लोगों के द्वारा विभिन्न प्रयोगशालाओ में कई विषयो की जानकारी दी जाएगी।

हम यहां आने वालों को टीआईएफआर के माध्यम से विज्ञान और गणित के व्यापक शोध के रिजल्ट को उनके वास्तविक जीवन में भी अनुभव कराना चाहते हैं। हम खगोलशास्त्र से लेकर जूलॉजी तक की लगभग हर चीज पर काम करते हैं। हमारे एमएससी और पीएच.डी. के छात्र आने वालों आगुंतको से विभिन्न विषयों पर चर्चा भी करेंगे।

प्रो. अरनब भट्टाचार्य, अध्यक्ष, आउटरीच टीम  

कौन किस विषय पर बात करेगा?

इस कार्यक्रम में हरिशी कृष्णमूर्ति "The Little Neutral One” में न्यूट्रियंस और पृथ्वी के अणु के बारे में बताएंगी तो सौम्यजीत मित्रा अपने "रोशनी, रसायन विज्ञान, क्रिया-प्रतिक्रिया" में अल्ट्रा तेज लेज़र किरण को फोटो लेने में किस तरह से इस्तेमाल किया जाता है इस बारे में बताएँगे।

तो हर्षिता कौल “Follow your Gut” के माध्यम से लोगों के अंदर करोंडो अरबो की संख्या में स्थित बैक्टीरिया के में बात करेंगी कि कैसे वे जीवन को प्रभावित करते है जबकि सागर श्रीवास्तव सभी ओरिगेमी की दुनिया और गणित के साथ के संबंधो के बारे में बताएँगे।

जबकि अंकोना दत्ता और दीपा खुशालानी, टीआईएफआर के फैक्लटी सदस्यों को अपने अनुभव को साझा करते हुए यह बताएंगी कि कैसे एक वैज्ञानिक बना जाता है।

अगर आप इस कार्यक्रम का हिस्सा बनना चाहते हैं तो दिए गए ईमेल पर खुद को पहले रजिस्टर्ड करवाना होगा, अन्यथा लिमिटेड सीट होने के कारण आप इस कार्यक्रम से वंचित हो सकते हैं।

रजिस्टर्ड के लिए आप इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं-arnab.tifr@gmail.com













संबंधित विषय
ताजा ख़बरें