‘तारक मेहता’ में बाइकिंग क्वीन का धमाल, 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' को किया गया हाईलाइट!

सभी गोकुलधाम वासी बहुत मस्ती करते हैं और गरबा होता है। अंत में 'बाइकिंग क्वीन' को जून के महीने में यूरोप की उनकी अगली बाइक यात्रा के लिए शुभ कामनाओं के साथ विदा करते हैं।

  • ‘तारक मेहता’ में बाइकिंग क्वीन का धमाल,  'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' को किया गया हाईलाइट!
  • ‘तारक मेहता’ में बाइकिंग क्वीन का धमाल,  'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' को किया गया हाईलाइट!
  • ‘तारक मेहता’ में बाइकिंग क्वीन का धमाल,  'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' को किया गया हाईलाइट!
SHARE

‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ शो लोगों को हंसी बांटने के साथ साथ विभिन्न सामाजिक मुद्दों पर भी लोगों को जागरूक करने का प्रयास करता है। इस ट्रैक में 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' को हाईलाइट करते हुए स्त्री सशक्तिकरण पर जोर दिया गया है। 'बाइकिंग क्वीन' सूरत की वीमेन अचीवर हैं जो अब तक अपनी बाइक्स पर पुरे भारत, नेपाल, थाईलैंड, मलेशिया, सिंगापुर व बहुत सारे और भी देशों का भ्रमण कर चुकी हैं। 2018 में वे 45 महिलाओं के साथ भारत भ्रमण कर चुकी हैं।  

‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में महिला मंडल के साथ टापू सेना और चम्पालाल मिलकर 'बाइकिंग क्वीन' डॉ सारिका मेहता, जीनल शाह व रुताली पटेल को गोकुलधाम सोसायटी में आने का निमंत्रण देते हैं। वे लोग पुरुष मंडल को इसकी भनक तक नहीं पड़ने देतीं।  सोसाइटी में जश्न की तैयारियां चल रहीं हैं पर पुरुष मंडल को क्लब हाउस में भेज दिया जाता है। सभी पुरुषों को 'बाइकिंग क्वीन' के गोकुलधाम में मोटर साइकिल पर आने के बाद ही पता चलता है कि वे कौन हैं।

सभी गोकुलधाम वासी बहुत मस्ती करते हैं और गरबा होता है। अंत में 'बाइकिंग क्वीन' को जून के महीने में यूरोप की उनकी अगली बाइक यात्रा के लिए शुभ कामनाओं के साथ विदा करते हैं।


शो के क्रिएटर असित कुमार मोदी का कहना है,  बाइकिंग क्वीन' डॉ सारिका मेहता, सुश्री जीनल शाह व सुश्री रुताली पटेल का तारक मेहता का उल्टा चश्मा में स्वागत करते हुए बहुत ही गर्व हुआ क्योंकि वे स्त्री सशक्तिकरण का ज्वलंत उदाहरण हैं। हमारे शो में भी महिलाओं को सशक्त, बुद्धिमान और सकारात्मक दिखाया जाता है।  हम उन महिलाओं को सलाम करते हैं जिन्हें अपनी शक्ति और खुद पर विश्वास है।

डॉ सारिका मेहता, 'बाइकिंग क्वीन' की लीडर का कहना है, एक महिला सम्पूर्ण चक्र है जिसमें पैदा करने, पोषण करने और रूपांतर करने की शक्ति भी होती है और इच्छा भी। हम अपने अंदर शक्ति, हिम्मत और मर्यादा तीनो का समागम शान से रखते हैं। हमें तारक मेहता का उल्टा चश्मा के सेट पर आकर बहुत अच्छा लगा। यह एक ऐसा शो है जो स्त्री शक्ति को सकारात्मक रूप में दिखता है। हम असित कुमार मोदी व पूरी टीम को धन्यवाद देते हैं कि उन्होंने हमे अपना स्त्री सशक्तिकरण का संदेश देने का इतना अच्छा मौका दिया।

‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ सोमवार से शुक्रवार सोनी सब पर प्रसारित होता है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें