माउंट मैरी मेले की रौनक


  • माउंट मैरी मेले की रौनक
SHARE

मदर मैरी की जयंती का जश्न यानी की माउंटमरी मेला बांद्रा में रविवार 10 सितंबर से रविवार 17 सितंबर तक माउंट मेरी चर्च में हर साल आयोजित किया जाता है। 8 सितंबर को मदरमेरी का जन्मदिवस माना जाता है। इसके उपलक्ष्य में बांद्रा के माउंट मेरी चर्च के परिसर में माउंट मेरी मेला का आय़ोजन किया जाता है। इस आठ दिनों तक चलनेवाले मेले में अलग अलहग सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।


क्या है माउंट मेरी चर्च की खासियत
माउंट मैरी चर्च (माउन्ट ऑफ अवर लेडी) को दुनिया भर के सुदर चर्चों में से एक माना जाता है। यह चर्च 1640 में बनाया गया था और 1761 में इसका पुनर्निर्माण किया गया । पिछलें 300 से भी अधिक सालों से यह चर्च मुंबई की एक पहचान कर खड़ा है।


सुरक्षा के लिए लोग खुद से लेते है भाग
इतने बड़े मेले में सुरक्षा हमेशा से ही एक अहम मुद्दा होता है। चर्च ट्रस्ट की ओर से 15 अगस्त को स्वयंसेवक को फॉर्म दिया जाता है। ये स्वयंसेवक अपनी इच्छा से मेले की सुरक्षा में भागीदार होते है। इस मेले में सभी धर्मो के लोग आते है। सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ साथ मेले में लजीज व्यंजन और बच्चों के लिए उंची उचाई वाले झूले भी लगे होते है।


मुफ्त वाई फाई
चर्च ने इस साल मेला परिसर में मुफ्त वाई फाई देने की सुविधा शुरु की है। साथ ही मेले के दौरान आने जानेवालों को कोई तकलीफ ना हो इसके लिए अतिरिक्त ट्रेने और बस की भी व्यवस्था की गई है। साथ ही मेले में किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए भारी तादाद में पुलिस बल तैनात किया गया है।


स्टॉल लगाने के लिए एक महीना पहले जारी होते है आवेदन
माउंट मेरी मेला में लाखों की तादाद में लोग आते है, लिहाजा मेले के दौरान काफी व्यापारी में ले में अपना अपना स्टॉल लगाने के लिए चर्च को आवेदन देते है, जो मेले के एक महीने पहले ही शुरु हो जाता है। स्टॉल की जगह को तीन भागों में बांटा गया है।


डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दें) 

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें