इस बार पटाखों की आवाज पड़ी धीमी

 Pali Hill
इस बार पटाखों की आवाज पड़ी धीमी

मुंबई - पिछले साल की अपेक्षा इस साल तेज ध्वनि के पटाखे कम फोड़े गए। पिछले साल पटाखों की ध्वनि मर्यादा 123 डेसिबल्स दर्ज की गई थी। इस साल यह मर्यादा 113.5 डेसिबल्स दर्ज की गई। यह जानकारी आवाज फाऊंडेशन के सुमेरा अब्दुलाली ने दी है। इसके लिए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने पत्र के द्वारा सुमेरा का आभार प्रगट किया है।

मरीन ड्राइव परिसर में सबसे ज्यादा और तेज ध्वनि के पटाखे फोड़े गए। वरली में बड़ी संख्या में पटाखे फोड़े गए। केईएम, टाटा, वाडिया जैसे महत्वपूर्ण अस्पतालों के परिसरों में पटाखों की ध्वनि मर्यादा 101 डेसिबल्स थी। हलांकि इस परिसर में समय के नियम का उल्लंघन किया गया। रात के 12 बजे तक इस परिसर में पटाखे फोड़े जाते हैं, जिस पें उन्होंने चिंता जताई है।

Loading Comments