राजाओं के राजा ‘लालबाग के राजा’, बप्पा से जुड़े तथ्य!

लालबाग के राजा का ठाटबाट किसी राजा से कम नहीं हैं। उनकी सजवाट देखते ही बनती है। शुरुआत में इन्हें छोटे रूप में स्थापित किया गया था। कहते हैं ना लोग जुड़ते गए और कारवां बनता गया। जी हां, कुछ ऐसा ही हुआ, लालबाग के राजा के साथ।

  • राजाओं के राजा ‘लालबाग के राजा’, बप्पा से जुड़े तथ्य!
  • राजाओं के राजा ‘लालबाग के राजा’, बप्पा से जुड़े तथ्य!
  • राजाओं के राजा ‘लालबाग के राजा’, बप्पा से जुड़े तथ्य!
  • राजाओं के राजा ‘लालबाग के राजा’, बप्पा से जुड़े तथ्य!
SHARE

मुंबई नगरी गणपति बप्पा के जयकारों से गूंज उठी है, जी हां इस शहर का सबसे बड़ा महोत्सव गणेशोत्सव शुरु हो गया है। भगवान गणेश को सुख समृद्धि के देवता कहा जाता है। मुंबई में गणेश चतुर्थी के मौके पर 10 दिन तक इनका जन्मदिन बड़े ही धूमधाम से साथ मनाया जाता है। इस दौरान आपको हर गली कूचे में गणपति के दर्शन होंगे। पर कुछ गणपति की मान्यता और इतिहास बेहद अलग है, उन्हीं में से एक हैं लालबाग के राजा (लालबागचा राजा), जोकि मन्नतों के गणपति के रूप में भी जाने जाते हैं। इनकी दिव्यता देखते ही बनती है। इनके कदमों पर माथा टेकने के लिए देश से ही नहीं विदेश से भी भक्तगण आस्था लिए आते हैं। हर रोज यहां लाखों भक्तों का जमावड़ा होता है।

आजादी से पहले लालबाग के राजा का उदय

मुंबई शहर मछुआरों का शहर माना जाता है, यही लोग सबसे पहले यहां आकर बसे थे। आजादी से पहले 1934 में पेरु चॉल में ताला लग जाने की वजह से मछुआरे खुले में मछलियां की बेचने के लिए मजबूर थे। उन्होंने अपने आशियाने की मांग गणपति बप्पा के सामने रख, बप्पा को स्थापित किया जो आज लालबाग के राजा के नाम से मशहूर हैं। उन्हें मन्नतों कि गणपति भी कहा जाता है।

जनता के साथ साथ बप्पा भी हुए धनवान

लालबाग के राजा का ठाटबाट किसी राजा से कम नहीं हैं। उनकी सजवाट देखते ही बनती है। शुरुआत में इन्हें छोटे रूप में स्थापित किया गया था। कहते हैं ना लोग जुड़ते गए और कारवां बनता गया। जी हां, कुछ ऐसा ही हुआ, लालबाग के राजा के साथ। बप्पा भक्तों की मनोकामना पूर्ती करते गए और लोगों की उनके प्रति आस्था बढ़ती गई। आज बप्पा का बड़ा भंडार ट्रस्ट है, जिसमें भक्त दिल खोलकर दान करते हैं और यह पैसा जरूरतमंदो के पास जाता है।

2005 की बाढ़ और बप्पा का साथ 

मुंबई हमेशा से ही किसी ना किसी त्रासदी से हमेशा सामना करता रहा है। पर इस शहर का हौसला कभी कमजोर नहीं हुआ। 2005 में आई बाढ़ ने मुंबई का जीवन अस्त व्यस्त कर दिया था। तो इस दौरान लालबागचा ट्रस्ट तुरंत जरुरतमंद लोगों की मदद के लिए उतर आया था। भोजन, कपड़ा के अलावा इस ट्रस्ट ने लोगों के लिए मकान भी बनाकर दिए। मुंबई में जब भी कोई संकट आता है, तो लालबागचा राजा सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडल मदद के लिए पहले आगे आता है।

बॉलीवुड सेलिब्रिटी की खास आस्था

मुंबई शहर बॉलीवुड के लिए भी खासा मशहूर है। लालबाग के राजा के दरबार में 10 दिनों तक बॉलीवुड सेलेब्स का जमावड़ा रहता है। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन की बप्पा में गहरी आस्था है। ‘कुली’ फिल्म की शूटिंग के दौरान जब अमिताभ बच्चन को गहरी चोट लगी थी और उनका बचना मुश्किल माना जा रहा था। उस वक्त उनकी पत्नी और एक्ट्रेस जया बच्चन हॉस्पिटल से हर दिन पैदल बिना जूता चप्पल पहनें सिद्धीविनायक जाया करती थी। अमिताभ बच्चन के ठीक होने के बाद इस परिवार की बप्पा पर गहरी आस्था हो गई। हर साल यह परिवार बप्पा के दर्शन के लिए यहां आता है। इसके अलावा अन्य कलाकार भी गणपति के दर्शन पाते हैं।     

  

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें