Coronavirus cases in Maharashtra: 510Mumbai: 278Pune: 57Islampur Sangli: 25Ahmednagar: 20Nagpur: 16Navi Mumbai: 16Pimpri Chinchwad: 15Thane: 14Kalyan-Dombivali: 10Vasai-Virar: 6Buldhana: 6Yavatmal: 4Satara: 3Aurangabad: 3Panvel: 2Ratnagiri: 2Kolhapur: 2Palghar: 2Ulhasnagar: 1Sindudurga: 1Pune Gramin: 1Godiya: 1Jalgoan: 1Nashik: 1Washim: 1Gujrat Citizen in Maharashtra: 1Total Deaths: 21Total Discharged: 42BMC Helpline Number:1916State Helpline Number:022-22694725

ganpati utsav 2019 : दमकल विभाग ने 'लालबाग के राजा' को थमाया 17 लाख का बिल


ganpati utsav 2019 : दमकल विभाग ने 'लालबाग के राजा' को थमाया 17 लाख का बिल
SHARE

मुंबई के सबसे फेमस गणपति मंडल 'लालबाग का राजा' को दमकल विभाग ने 17 लाख रूपये का एडवांस बिल भेजा है। दमकल विभाग ने यह बिल लालबाग के राजा को अपनी सेवा देने के एवज में भेजा है। पहले इस बिल की अधिकतम राशि 2.5 से 3 लाख रुपए तक होती थी, लेकिन इस बार बिल में छह गुना की वृद्धि की गयी है।

जैसा की सभी जानते हैं कि लालबाग के राजा के दर्शन के लिए भक्तों की काफी भीड़ लगती है। भारी भीड़ होने के कारण व्यवस्था बनाए रखने की जरूरत होती है ,साथ ही कोई दुर्घटना न घटे इसीलिए यहां दमकल कर्मी और उनकी एक गाड़ी 11 दिन तक 24 घंटे के लिए हमेशा खड़ी रहती है। इस सेवा के लिए दमकल विभाग लालाबाग राजा मंडल से शुल्क लेता है।

इस बार बिल को लेकर मंडल के सदस्यों में असंतोष व्याप्त है। सदस्यों का कहना है कि जहां-जहां सार्वजानिक कार्यक्रम होते हैं वहां-वहां अग्नि सुरक्षा मुहैया कराई जाती है। नागरिकों के सुरक्षा की जिम्मेदारी क्या बीएमसी की नहीं है? नाराजगी प्रकट करते हुए मंडल के सदस्यों ने इस बिल को नहीं भरने का निर्णय किया है।

बताया जाता है कि पिछली बार भी दमकल विभाग ने अधिल बिल का अमाउंट भेजा था लेकिन मंडल के सदस्य और नगरसेवक सचिन पडवल और श्रद्धा जाधव के विरोध के बाद बिल की राशि कम करते हुए 3 लाख रुपए   कर दी गयी।

जबकि इस बारे में दमकल विभाग का कहना है कि विभाग की तरफ से 2 से लेकर 12 सितंबर तक दमकल विभाग की एक गाड़ी कर्मचारियों के साथ हमेशा मुस्तैद रहती है। यह बिल दमकल विभाग के नियम के मुताबिक ही भेजा गया है।

विभाग के मुताबिक पहले 3 घंटे के लिए 10640 रूपये लिए जाते हैं लेकिन उसके बाद हर तीन घंटे के लिए 3600 रूपये चार्ज किया जाता है, तो इस हिसाब से 264 घंटे का कुल हिसाब 9 लाख 50 हजार 240  रूपये होते हैं जिस पर जीएसटी और कर्मचारियों का भत्ता मिला कर 17 लाख 20 हजार 923 रूपये होते हैं।

संबंधित विषय
संबंधित ख़बरें