Advertisement

Navratri 2020: नौ दिवसीय उत्सव का इतिहास, महत्व, रंग और शुभ मुहूर्त

हर साल सितंबर-अक्टूबर के महीने में मनाया जाने वाला दुर्गा मां का नवरात्रि (Navratri) का त्योहार हिन्दू धर्म में खास महत्तव रखता है।

Navratri 2020: नौ दिवसीय उत्सव का इतिहास, महत्व, रंग और शुभ मुहूर्त
SHARES

हर साल सितंबर-अक्टूबर के महीने में मनाया जाने वाला दुर्गा मां का नवरात्रि (Navratri) का त्योहार हिन्दू धर्म में खास महत्तव रखता है। इसे न सिर्फ भारत बल्कि दूसरे देशों में भी धूमधाम से मनाया जाता है। पर इस साल कोरोना (Coronavirus) के कारण इस त्योहार को शान्तिपूर्ण ढंग से मानने की अपील सरकार ने की है। इसमें हमारी भक्ति भी तभी मानी जाएगी, जब हम सरकार की इस अपील पर अमल करेंगे। 

इतिहास

हिन्दु धर्म की मान्यता के अनुसार महिषासुर नामक राक्षस को देवी दुर्गा ने पराजित किया था। ऐसा कहा जाता है कि महिषासुर को ब्रह्म देव से अमरता का वरदान प्राप्त था। इस अमरत्व की शर्त यही थी कि महिसाषुर को सिर्फ कोई स्त्री ही पराजित कर सकती थी। इसलिए देवी ने दुर्गा का रूप धारण किया और 15 दिनों तक यह युद्ध चला। आखिर में दुर्गा मां ने उसका संहार किया और भी से धर्म की जीत पर यह त्योहार मनाया जा रहा है। 

दुर्गा के नौ रूपों की पूजा  

नवरात्रि के हर दिन मां दुर्गा के अलग-अलग 9 रूपों की पूजा की जाती है।

  • पहले दिन - देवी शैलपुत्री
  • दूसरे दिन - देवी ब्रह्मचारिणी
  • तीसरे दिन - देवी चंद्रघंटा
  • चौथे दिन - देवी कूष्मांडा
  • पांचवे दिन - देवी स्कन्दमाता
  • छठे दिन - देवी कात्यानी
  • सातवें दिन - देवी कालरात्री
  • आठवें दिन - देवी महागौरी
  • नौवें दिन - देवी सिद्धीदात्री

नवरात्रि 2020 मुहूर्त

2020 में 17 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक नवरात्रि मनायी जाएगी। हिंदू पंचांग के अनुसार इस साल नवरात्रि अश्विन मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपाद तिथि से शुरू होगी। पहले दिन की पूजा का शुभ मुहुर्त सुबह 6.30 से 10.30 बजे तक का है।

नौ दिन नौ रंग 

मॉडर्न युग में लोग नवरात्रि के समय पर 9 दिन तक अलग अलग कलर के कपड़े पहनकर भी अपनी भक्ती का परिचय देते हैं। 

  • प्रतिपदा - पीला
  • द्वितीया - हरा
  • तृतीया -ग्रे
  • चतुर्थी - नारंगी
  • पंचमी - सफेद
  • षष्ठी - लाल
  • सप्तमी- रॉयल ब्लू
  • अष्टमी - गुलाबी
  • नवमी - बैंगनी
संबंधित विषय
Advertisement