नवरात्रि पर्व पर इन 9 देवियों के मंदिर जरूर जाएं!


  • नवरात्रि पर्व पर इन 9 देवियों के मंदिर जरूर जाएं!
  • नवरात्रि पर्व पर इन 9 देवियों के मंदिर जरूर जाएं!
  • नवरात्रि पर्व पर इन 9 देवियों के मंदिर जरूर जाएं!
  • नवरात्रि पर्व पर इन 9 देवियों के मंदिर जरूर जाएं!
  • नवरात्रि पर्व पर इन 9 देवियों के मंदिर जरूर जाएं!
  • नवरात्रि पर्व पर इन 9 देवियों के मंदिर जरूर जाएं!
  • नवरात्रि पर्व पर इन 9 देवियों के मंदिर जरूर जाएं!
  • नवरात्रि पर्व पर इन 9 देवियों के मंदिर जरूर जाएं!
  • नवरात्रि पर्व पर इन 9 देवियों के मंदिर जरूर जाएं!
SHARE

21 सितंबर से नवरात्रि का पर्व शुरु होने जा रहा है। मूर्तिकार जहां दुर्गा मां कि मूर्तियों को आखिरी रूप देने में जुटे हैं तो वहीं भक्त मां की पूजा अर्चना की तैयारियों में जुट गए हैं। कुछ भक्त नवरात्रि पर 9 दिनों तक व्रत भी रखते हैं। ऐसे में वे मां के दर्शन करना जरूर चाहेंगे। तो चलिए हम आपके लिए नवरात्रि पर मुंबई और मुंबई से सटे 9 ऐसी देवियों की लिस्ट लेकर आए हैं जहां पर जाकर आपका मन प्रसन्न हो उठेगा।

1. मुंबादेवी

मुंबई के भुलेश्वर में विराजमान मुंबादेवी के दर्शन करने मुंबई के अलावा देश के कौने कौने से लोग आते हैं। ऐसी मान्यता है कि मुंबादेवी अपने हर भक्त की मन्नत पूरी करती है। यही वजह है कि यहां हर दिन भक्तों का तांता लगा रहता है। खासकर नवरात्रि के समय में यहां खासी भीड़ देखी जाती है। मुंबादेवी का चेहरा नारंगी है और वे रजत मुकुट से सुशोभित हैं। मुंबादेवी मंदिर लगभग 400 साल पुराना है। मुंबई शहर का नाम मुंबादेवी के नाम से ही पड़ा है।

ऐसे पहुंचे 

मंबादेवी मंदिर वेस्टर्न के रेलवे स्टेशन मरीन लाइन्स या फिर छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस स्टेशन से पहुंचा जा सकता है। यहां से लगभग 2 किमी है।


2. कालबादेवी 

कालबादेवी एरिया मुंबई का सबसे व्यस्ततम एरिया है। यहां पर कपड़ा, ज्वेलरी, सब्जी-भाजी, जूता चप्पल आदि से लेकर तमाम चीजों के बड़े बाजार हैं। कालबादेवी की मूर्ति काफी प्राचीन मूर्तियों में से एक है। कालबादेवी का पहले माहिम में मंदिर था। पर रोड कार्य की वजह से उन्हें शिफ्ट करना पड़ा था। नवरात्रि पर यहां भी भक्तों की लंबी लाइन रहती है।

ऐसे पहुंचे 

मरीन लाइन्स स्टेशन और छत्रपति शिवाजी स्टेशन से पहुंचा जा सकता है। मरीन लाइन्स से कालबादेवी मंदिर बाय वॉक पहुंचा जा सकता है। दूरी लगभग आधा किमी. है।  


3. महालक्ष्मी 

धन की लालसा तो लगभग हर इंसान को होती है, इसीलिए धन की माता महालक्ष्मी के मंदिर में भक्तों का हमेशा तांता लगा रहता है। महालक्ष्मी मंदिर मुंबई के फेमस मंदिरों में से एक है। यहां पर दुनियां भर से लोग मां के दर्शन के लिए आते हैं। यह मंदिर समुद्र के किनारे पर स्थित है। इसका निर्माण 1831 में हुआ था।

ऐसे पहुंचे 

महालक्ष्मी स्टेशन या फिर मुंबई सेंट्रल से यहां पहुंचा जा सकता है। इन स्टेशनों से मंदिर की दूरी लगभग 2 किमी है।  


4.पायधुनी की महाकाली

पायधुनी का महाकाली मंदिर 1762 में बनाया गया था। स्थानीय लोगों के अनुसार, यह देवी ब्रिटिश काल में एक कुंए में मिली थी। 7 सालों तक कासार समाज द्वारा इसे संरक्षित किया गया। यह एक ऐसी जगह है जहां पर नवरात्रि उत्सव पूर्ण सादगी के साथ मनाया जाता है। यहां पर दूर दूर से भक्त मां के दर्शन करने आते हैं।

ऐसे पहुंचे 

यहां मरीन लाइन्स और सीएसटी स्टेशनों से पहुंचा जा सकता है। यह मोहम्मद अली के पास में है। मरीन लाइन्स से लगभग मंदिर की दूरी 2 किमी. है।


5. जीवदानी 

मुंबई से सटे विरार की पहाड़ी में जीवदानी माता का भव्य मंदिर है। ऐसी मान्यता है कि इस मंदिर का निर्माण पांडवों ने अपने बनवास के दौरान किया था। माना जाता है कि यहां की देवी ने अपने कई भक्तों को जीवनदान दिया है, इसलिए इन्हें जीवदानी के नाम से जाना जाता है। नवरात्रि में यहां पर खास रोनक होती है।

ऐसे पहुंचे 

वेस्टर्न रेलवे के विरार स्टेशन से यहां पहुंचा जा सकता है। विरार स्टेशन से जीवदानी मंदिर की दूरी लगभग 2 किमी. है।  


6. वैष्णो देवी 

अगर आपको कम बजट और कम समय में वैष्णो देवी के दर्शन करने हैं तो आप मलाड की वैष्णो देवी जा सकते हैं। यहां पर नवरात्रि के समय भक्तों की काफी भीड़ रहती है। इसे जम्मू कश्मीर की वैष्णो देवी के मंदिर की तरह ही डिजायन किया गया है।

ऐसे पहुंचे 

मालाड ईस्ट में स्थित है। मलाड स्टेशन से लगभग आधा किमी. की दूरी पर स्थित है।

 

7. वज्रेश्वरी

1739 में बना श्री वज्रेश्वरी योगिनी मंदिर मुंबई से 75 किमी की दूरी पर स्थित है। यहां पर पूरे देश से लोग दर्शन करने के लिए आते हैं। इस मंदिर का निर्माण 1739 में हुआ था। यहां पर तीन देवी की मूर्तियां स्थापित हैं। बीज में वज्रेश्वरी देवी उनके दाहिने तरफ रेणुका देवी और बाये तरफ काली माता स्थापित हैं।

ऐसे पहुंचे 

मुंबई से सटे वसई से मंदिर की दूरी 31 किमी है। खुद की कार से जाया जा सकता है।

  

8. शीतला देवी 

शीतला देवी मंदिर भी मुंबई के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। यहां तीन मुखी महाकाली की भी मूर्ति है। नवरात्रि के समय में बड़ी संख्या में मां के भक्त यहां पहुंचते हैं। 

ऐसे पहुंचे 

माहिम स्टेशन से जा सकते हैं। 6 मिनट का वॉकिंग डिसटेंस है।


9. जोगेश्वरी देवी

जोगेश्वरी देवी के नाम से ही जोगेश्वरी स्टेशन का नाम जोगेश्वरी पड़ा है। यह मंदिर 1500 साल पुराना है। यहां कि गुफाएं खास आकर्षण का केंद्र हैं। वैसे तो यहां हर वक्त भक्तों का तांता लगा रहता है। पर नवरात्रि के समय में खासी भीड़ देखने को मिलती है।

ऐसे पहुंचे 

जोग्शवरी से जा सकते हैं। जोगेश्वरी स्टेशन से लगभग 2 किमी. की दूरी पर मंदिर स्थित है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें