Advertisement

धारावी मॉडल को लेकर ऑस्ट्रेलिया की सरकारी मीडिया ने की तारीफ

धारावी की सफलता पर दुनिया भर की नजर है। कई लोग इसका उदाहरण देकर इस मॉडल को अन्य देशों पर भी लागू करने की सलाह दे रहे हैं।

धारावी मॉडल को लेकर ऑस्ट्रेलिया की सरकारी मीडिया ने की तारीफ
SHARES

देश में भले ही इस समय कोरोना रोगियों (COVID-19 patient in dharavi) की संख्या बढ़ रही हो लेकिन मुंबई में कोरोना (Cover in mumbai) का प्रसार कुछ कंट्रोल में जरूर हुआ है। सबसे बड़ी बात एशिया के सबसे बड़े स्लम इलाके धारावी (asia largest slum Ares dharavi) में जिस तरह से कोरोना (Coronavirus) का प्रसार हुआ और उसे रोकने में प्रशासन और कई गैर सरकारी संस्थाओं ने जिस तरह से अपनी भूमिका निभाई वह जरूर काबिले तारीफ है। और इसकी तारीफ इस समय दुनिया कर रही है। पहले WHO फिर वाशिंगटन पोस्ट (Washington Post) ने भी धारावी मॉडल (dharavi model) की तारीफ की, और अब उसमें एक नाम और जुड़ गया है,, वह है ऑस्ट्रेलिया का न्यूज़ चैनल ABC चैनल ने। चैनल ने न केवल धारावी मॉडल की प्रशंसा की बल्कि इसे दुनिया के लिए एक सबक भी बताया।

वर्तमान में धारावी में केवल 88 मरीजों का इलाज चल रहा है, जबकि पहले इसकी संख्या हजारों में थी। धारावी की सफलता पर दुनिया भर की नजर है। कई लोग इसका उदाहरण देकर इस मॉडल को अन्य देशों पर भी लागू करने की सलाह दे रहे हैं।

पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) उसके बाद अमेरिका की सबसे बड़ी मीडिया समूह वाशिंगटन पोस्ट (Washington Post) ने भी इसकी प्रशंसा की। अब इस पर ऑस्ट्रेलिया की सरकारी समाचार एजेंसी एबीसी न्यूज़ ने भी ध्यान दिया है और इसकी तारीफ कर दुनिया को यह मॉडल सीखने की अपील की है। धारावी का उदाहरण दुनिया के सामने मिशन धारावी (mission dharavi) के नाम से सामने आ रहा है।

गौरतलब है कि, कोरोना ने मार्च महीने में मुंबई में प्रवेश किया। तब से, संकीर्ण सड़कों, घनी आबादी वाले क्षेत्रों, स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी, अस्वच्छ परिस्थितियों और सार्वजनिक शौचालयों का सैकड़ों लोगों द्वारा उपयोग जैसी तमाम कारणों के मद्देनजर धारावी सरकार और प्रशासन के लिए चिंता का विषय बन गया। 

लेकिन स्थानिय सिविक बॉडी के आयुक्त इकबाल सिंह चहल के नेतृत्व में और सहायक आयुक्त किरण दीघवकर और जी/नॉर्थ के तमाम अधिकारियों और गैर सरकारी संगठनों के प्रयासों के साथ साथ मार्गदर्शन में धारावी आज कोरोना मुक्ति के कगार पर है।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय