Advertisement

मुंबई में लगभग 90% लोगों में कोविड -19 एंटीबॉडी : सर्वेक्षण


मुंबई में लगभग 90% लोगों में कोविड -19 एंटीबॉडी : सर्वेक्षण
SHARES

कोरोना की तीसरी लहर ( coronavirus third wave ) के खतरे को देखते हुए नगर पालिका ने सभी उम्र के नागरिकों के शरीर में एंटीबॉडी की जांच के लिए पांचवां सीरो सर्वे कराया था। शुक्रवार को सर्वे रिपोर्ट जारी की गई। रिपोर्ट में 86.64 प्रतिशत मुंबईकरों में कोविड -19 एंटीबॉडी पाए गए। कोविड की पृष्ठभूमि पर बीएमसी क्षेत्र में किए गए पांचवें सीईआरओ सर्वेक्षण के निष्कर्षों की घोषणा की गई है।

पूर्ण या आंशिक रूप से टीके वालो में 90.26 प्रतिशत में एंटीबॉडी

जिन लोगों को पूर्ण या आंशिक रूप से टीका लगाया गया था, उनमें से 90.26 प्रतिशत में एंटीबॉडी पाए गए। 79.86 प्रतिशत अशिक्षित आबादी में एंटीबॉडी पाए गए। पिछले सर्वेक्षणों की तुलना में स्लम के साथ-साथ गैर-झुग्गी-झोपड़ी क्षेत्रों में एंटीबॉडी की घटनाओं में वृद्धि हुई है।एंटीबॉडीज ( covid antibody) पाए जाने पर भी मास्क के इस्तेमाल, हाथों की साफ-सफाई और सुरक्षित दूरी का ध्यान रखना चाहिए। पांचवां सीरो सर्वे नगर निगम क्षेत्र में बीएमसी द्वारा कोविड-19 वायरस संक्रामक संक्रामक रोग की पृष्ठभूमि पर किया गया था।

86.64 फीसदी आबादी में एंटीबॉडीज

रक्त के नमूनों का परीक्षण किया गया और एंटीबॉडी खोजने के लिए एक सर्वेक्षण किया गया। सर्वे के मुताबिक 86.64 फीसदी आबादी में एंटीबॉडीज पाए गए।जिन लोगों को टीका लगाया गया था, उनमें से 90 प्रतिशत में एंटीबॉडी पाए गए, और 80 प्रतिशत लोगों में जिन्हें टीका नहीं लगाया गया था। 24 वार्डों में कुल 8,600 रक्त के नमूनों का परीक्षण किया गया है। पुरुषों और महिलाओं में एंटीबॉडीज मिलने की दर समान होती है। 18 वर्ष की आयु के अनुसार समान वितरण है। झुग्गी-झोपड़ियों और इमारतों में बहुत अंतर नहीं है। इस बीच स्वास्थ्य विभाग ने कहा है कि नियमों का पालन किया जाए।

पहला, दूसरा और तीसरा सीरो सर्वेक्षण, और बच्चों का सीरो सर्वेक्षण, धीमा और धीमा था। यहां तक कि भवन में भी यह 16 फीसदी हुआ करता था, अब यह बढ़कर 28 फीसदी हो गया है.51% बच्चों में एंटीबॉडी पाई गई है। सर्वे करने वाले डॉक्टरों के मुताबिक कोविड के उचित व्यवहार का पालन करना जरूरी है। इस बीच, जीनोम में किसी भी मरीज के पास डेल्टा प्लस नहीं था। लगभग 60-70% डेल्टा के मरीज पाए जाते हैं। ऐसे मामलों में सतर्क रहने की जरूरत है।

यह भी पढ़े- मुंबई ,पालघर, ठाणे और तटीय इलाको में कुछ दिनो तक लगातार बारीश की चेतावनी

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें