Advertisement

आवाज सुनकर कोरोना की होगी जांच, BMC का नया प्रयोग

अब तक बीएमसी कोरोना (Covid-19) महामारी की जांच के लिए एंटीजन टेस्ट (antijan test) या फिर एंटीबॉडी टेस्ट (antibody test) करती थी। लेकिन अब बीएमसी आवाज की ध्वनि तरंगों के माध्यम से इंसान के कोरोना पॉजिटिव या निगेटिव होने की बात पता कर लेगी।

आवाज सुनकर कोरोना की होगी जांच, BMC का नया प्रयोग
SHARES


कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रसार को रोकने के लिए बीएमसी (BMC) एक नया प्रयोग करने जा रही है। बीएमसी (BMC) अब इंसानों की आवाज के आधार पर कोरोना वायरस की जांच करेगी। अब तक बीएमसी कोरोना (Covid-19) महामारी की जांच के लिए एंटीजन टेस्ट (antijan test) या फिर एंटीबॉडी टेस्ट (antibody test) करती थी। लेकिन अब बीएमसी आवाज की ध्वनि तरंगों के माध्यम से इंसान के कोरोना पॉजिटिव या निगेटिव होने की बात पता कर लेगी।

बृह्नमुंबई म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन (BMC) ने कहा है कि, नेस्को (nesco) के जंबो केयर सेंटर में संदिग्धों और कोरोना रोगियों के आवाज़ की अगले सप्ताह से जाँच की जाएगी। चिकित्सा विशेषज्ञों ने यह पाया है कि, कोरोना संक्रमण के बाद आवाज बदल जाती है। अब चिकित्सा विशेषज्ञ इस लक्षण पर और भी अध्ययन कर रहे हैं कि, कोरोना वायरस का आवाज पर कितना प्रभाव पड़ता है, साथ ही इस पर भी विशेष अध्ययन किया जाएगा कि, क्या यह कोरोना के लक्षण होने पर आवाज ही प्रभावित होती है या अन्य गले के विकार भी सामने आते हैं?

इस टेस्ट से केवल 30 मिनट में, यह पता चल जाएगा कि आप कोरोना वायरस से संक्रमित हैं या नहीं।

BMC के मुताबिके, अगर इस टेस्ट से कोई पोज़िटिव आता है तो उसका आरटीपीएसआर भी टेस्ट किया जाएगा।

इस अवधारणा का उपयोग अमेरिका और इजरायल जैसे देशों में किया जा रहा है। जब किसी व्यक्ति में कोरोना के लक्षण दिखाई देता है, तो उन्हें सांस लेने में कठिनाई होती है। ये सभी प्रक्रियाएं फेफड़ों की मांसपेशियों को प्रभावित करती हैं। फेफड़ों की मांसपेशियां सूज जाती हैं जिससे आवाज भी बदल जाती है।

इसी आधार पर बदले हुए ध्वनि के माध्यम से यह पता लगाया जा सकता है कि, अमुक व्यक्ति कोरोना संक्रमित है या नहीं?


Read this story in मराठी
संबंधित विषय