सेनेटरी पैड के लिए भूख हड़ताल


SHARE

फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार की फिल्म 'पैडमैन' जहां महिलाओं को पीरियड्स में सेनेटरीपैड यूज करने के लिए प्रेरित करती है तो वहीं इसी मामले में एक कदम और आगे बढ़ते हुए छाया काकड़े ने अपनी मांग रखते हुए कहा है कि महिलाओं को राशन की दुकानों में मुफ्त में सेनेटरी पैड मिलना चाहिए। छाया काकड़े पिछले दो दिनों से आजाद मैदान में अपनी इसी मांग को लेकर भूख हड़ताल पर भी बैठ गयीं हैं।

अपने कई सहयोगियों के साथ भूख हड़ताल पर बैठीं छाया का कहना है कि ग्रामीण भागो में करीब 10 से 15 किमी दुरी पर मेडिकल स्टोर्स, मॉल्स उपलब्ध होते हैं। साथ ही सेनेटरी पैड महंगे भी होते हैं जिनका खर्च गरीब महिलाएं नहीं उठा पाती। 25 रूपये की सेनेटरी पैड के लिए महिलाओं को 40 से 50 रूपये किराया खर्च करके बाजारों में जाना होता है। इसीलिए मेरी मांग है कि जिस  तरह से राशन की दुकानों पर अनाज मिलते हैं ठीक उसी तरह से सैनेटरी पैड भी मिलना चाहिए वह भी मुफ्त।  


अन्य प्रमुख मांगे

  • सेनेटरी पैड राशन की दुकानों में मुफ्त में मिले।
  • कैंसर से पीड़ित महिलाओं को स्वास्थ्य सुविधा मिले।
  • माध्यमिक स्कूलों में और कॉलेजों में भी सेनेटरी वेंडिंग मशीन लगाई जाए।
  • इन सभी प्रस्तावों को अनिवार्य रूप से लागू करके इसे पास किया जाए।


पिछले साल हमने जीएसटी के संदर्भ में आंदोलन किया था। हमारी मांगे थी कि स्वयं सहायता समूहों के लिए 12 फीसदी जीएसटी लागू नहीं की जाए लेकिन उसे अभी तक पूरा नहीं किया गया है इसीलिए एक बार फिर से हम भूख हड़ताल पर बैठे हैं।

छाया काकडे, सामाजिक कार्यकर्ता 



संबंधित विषय
ताजा ख़बरें