Advertisement
COVID-19 CASES IN MAHARASHTRA
Total:
59,17,121
Recovered:
56,54,003
Deaths:
1,12,696
LATEST COVID-19 INFORMATION  →

Active Cases
Cases in last 1 day
Mumbai
15,390
575
Maharashtra
1,47,354
9,350

बच्चों की सुरक्षा के लिए नवी मुंबई नगर पालिका द्वारा नि:शुल्क टीकाकरण कार्यक्रम

23 नागरिक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों, स्कूलों, आंगनबाड़ियों, निजी क्लीनिकों, समाज कार्यालयों, नगरपालिका अस्पतालों जैसे विभिन्न स्थानों पर बाहरी टीकाकरण सत्र आयोजित किए जा रहे हैं।

बच्चों की सुरक्षा के लिए नवी मुंबई नगर पालिका द्वारा नि:शुल्क टीकाकरण कार्यक्रम
SHARES

टीकाकरण (Vaccination) से कई बीमारियों से बचाव होता है।  इसलिए नवी मुंबई नगर (Navi Mumbai)  स्वास्थ्य विभाग ने 'सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम' शुरू किया है।  इस कार्यक्रम के तहत गर्भवती माताओं, नवजात शिशुओं, दो साल से कम उम्र के बच्चों, 5, 10 और 16 साल के लड़के/लड़कियों का टीकाकरण किया जा रहा है।

सार्वभौम टीकाकरण कार्यक्रम के तहत खसरे के रूबेला के टीके की पहली खुराक 9 महीने पूरे करने वाले बच्चे को दी जाती है और खसरे के रूबेला के टीके की दूसरी खुराक 16 महीने पूरे करने वाले बच्चे को दी जाती है।  खसरा रूबेला का टीका एक बच्चे को निमोनिया और उसकी जटिलताओं/मृत्यु से बचाता है।  इसी तरह बच्चों को इन्फ्लूएंजा का टीका देने की योजना बनाई जा रही है और नगर निगम क्षेत्र में इन्फ्लूएंजा के लिए एक सार्वभौमिक टीकाकरण अभियान लागू किया जाएगा।

23 नागरिक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों, स्कूलों, आंगनबाड़ियों, निजी क्लीनिकों, समाज कार्यालयों, नगरपालिका अस्पतालों जैसे विभिन्न स्थानों पर बाहरी टीकाकरण सत्र आयोजित किए जा रहे हैं।  इसके अलावा खदानों, कंस्ट्रक्शन, विरल झुग्गी-झोपड़ियों जैसी जगहों पर भी मोबाइल सेशन का आयोजन किया गया है।  नगर निगम क्षेत्र में प्रत्येक माह 301 बाह्य संपर्क सत्र, 139 स्थायी सत्र एवं 30 मोबाइल सत्र के माध्यम से कुल 469 सत्र आयोजित किए जा रहे हैं।

माना जा रहा है कि कोरोना की तीसरी लहर से छोटे बच्चों के संक्रमित होने का खतरा ज्यादा है।  इसी पृष्ठभूमि में नगर आयुक्त अभिजीत बांगड़ ने माता-पिता से अपील की है कि वे अपने दो साल तक के बच्चों को निमोनिया से बचाने के लिए उनकी उम्र के अनुसार पहली और दूसरी खुराक देकर उनकी सुरक्षा करें।

लाभार्थी को दिए जानेवाले विभिन्न टिके

नंबर.

टिका

 टिका देने का समय

टी.डी. -1

प्रारंभिक गर्भावस्था

टी.डी. -2

टी.डी.  1 देने के 4 सप्ताह बाद

टी.डी.- बूस्टर

यदि माता को पूर्व में टी.डी. यदि प्रसव के 3 वर्ष के भीतर गर्भवती हो

बी.सी.जी.

जन्म, जितनी जल्दी हो सके, पूरा होने से एक साल पहले

हिपॅटायटिस़-बी जन्म के समय

जन्म के 24 घंटे के भीतर

ओ.पी.वी. जीरोमात्रा

जितनी जल्दी हो सके जन्म, 14 दिनों तक

ओ.पी.वी 1,2 और 3 

जन्म के बाद 6ठे, 10वां और 14वां सप्ताह पूरा होने पर

पेंटाव्हॅलंट1,2 और 3

जन्म के बाद छठा, 10वां और 14वां सप्ताह पूरा होने पर

गोवर रुबेला

जन्म के 9 महीने बाद, पूरा होने से 1 साल पहले

१०

जीवनसत्व- अ-1

जन्म के 9 महीने बाद, खसरे के टीके के साथ

११

डी.पी.टी. बूस्टर

16 से 24 महीने

१२

ओ.पी.वी बूस्टर

16 से 24 महीने

१३

गोवर रुबेला बूस्टर

16 से 24 महीने

१४ 

जीवनसत्व- अ-2 से 9

16 महीने और फिर हर छह महीने में 5 साल तक पूरे होते हैं

१५   

डी.पी.टी. बूस्टर

5 से 6 साल

१६  

टी.डी.

10 से 16 साल


Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें