KEM Hospital Accident: बच्चे का दाहिना हाथ काटा गया

आग लगने के बाद से प्रिंस घायल हो गया था। उसका दाहिना हाथ काफी जल गया था, इतना कि ब्लड सर्कुलेशन भी रुक गया था।

SHARE

एक चौंकाने वाली घटना के अनुसार जो 4 महीने का बच्चा प्रिंस राजभर मुंबई के किंग एडवर्ड मेमोरियल (KEM) अस्पताल आग लगने से झुलस गया था उसका दाहिना हाथ काट दिया गया है। बताया जाता है कि आग लगने के बाद से प्रिंस घायल हो गया था। उसका दाहिना हाथ काफी जल गया था, इतना कि ब्लड सर्कुलेशन भी रुक गया था। इसके बाद एहतियातन के तौर पर डॉक्टरों ने प्रिंस के हाथ को शरीर से जल्द कर दिया।

जल गया था प्रिंस 
प्रिंस के दिल में जन्म से ही छेद होने के कारण उसे वाराणसी से इलाज के लिए मुंबई लाया गया था। उसे KEM हॉस्पिटल में दाखिल कराया गया। बुधवार 6 नवंबर रात लगभग 2 सवा 2 बजे के लगभग ईसीजी मशीन में शॉर्ट-सर्किट के कारण आग लग गयी। वह ईसीजी मशीन प्रिंस से कनेक्ट थी। आग लगने के कारण मशीन के नॉड्स पिघल गए जिससे मासूम प्रिंस का दाहिना अंग काफी झुलस गया। इस आग में प्रिंस का दाहिना हाथ, चेहरा और पीठ भी जल गया था। सबसे अधिक प्रभावित उसका दाहिना हाथ हुआ था। उसके हाथ की नस जल कर क्षतिग्रस्त हो गयी थी, जिससे ब्लड सर्कुलेशन भी तुक गया था और इन्फेक्शन भी फ़ैलने का डर था।

काटा गया हाथ
अस्पताल के डीन डॉ.  हेमंत देशमुख ने बताया कि प्रिंस को गहन चिकित्सा इकाई (आईसीयू) वार्ड में शिफ्ट किया गया और उसे वेंटिलेंटर पर रखा गया था। उसका शरीर 22 फीसदी तक जल गया था, लेकिन बाद में उसकी तबियत और बिगड़ गयी। उसके दाहिने हाथ का ब्लड सर्कुलेशन रुक गया था, डॉक्टरों द्वारा काफी कोशिशों के बाद भी स्थिति जब कंट्रोल में नहीं आ रही थी। साथ ही शरीर के अन्य भाग में इन्फेक्शन न फैले डॉक्टरों को मजबूरन प्रिंस के दाहिने हाथ को उसके शरीर से अलग करना पड़ा।

डॉक्टरों के खिलाफ केस 
इस हादसे के बाद से प्रिंस के माता-पिता काफी दु:खी हैं और प्रिंस के भविष्य को लेकर चिंतित हैं। यही नहीं प्रिंस के पिता पन्नेलाल राजभर ने अस्पताल और डॉक्टरों के खिलाफ केस करने का निर्णय लिया है। उनका मानना है कि यह सब डॉक्टरों की लापरवाही से हुआ है।

'अस्पताल की कोई गलती नहीं'
जबकि डीन डॉ. हेमंत देशमुख का कहना है कि यह एक दुर्घटना है, वे स्टाफ या अस्पताल को दोष नहीं दे सकते हैं। अस्पताल का प्रबंधन बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) द्वारा किया जाता है और बीएमसी अधिकारी अब इस मामले को देख रहे हैं। भोईवाड़ा पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया है। मशीन साल भर पुरानी है, इस हादसे के पहले मशीन अच्छी तरह से काम कर रही थी। प्रिंस का इलाज अस्पताल द्वारा मुफ्त में किया जायेगा इस हादसे के लिए परिवार वालों को कोई भी मुआवजा नहीं दिया जायेगा।

पढ़ें: KEM अस्पताल के ICU में आग, 4 महीने का बच्चा झुलसा, वाराणसी से लाया गया था इलाज करवाने

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें