Advertisement
COVID-19 CASES IN MAHARASHTRA
Total:
43,43,727
Recovered:
36,09,796
Deaths:
65,284
LATEST COVID-19 INFORMATION  →

Active Cases
Cases in last 1 day
Mumbai
56,153
3,882
Maharashtra
6,41,596
57,640

महाराष्ट्र को 400 टन मेडिकल ऑक्सीजन और 30 हजार रेमडेसिविर मिलेगा

अब इन जीवनदायी चीजों की कोई कमी नहीं होगी। क्योंकि महाराष्ट्र को 400 टन मेडिकल ऑक्सीजन और 30,000 रेमडेसिविर मिलेंगे।

महाराष्ट्र को 400 टन मेडिकल ऑक्सीजन और 30 हजार रेमडेसिविर मिलेगा
SHARES

मुंबई (Mumbai) में, एक तरफ, कोरोना (Coronavirus) के रोगियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है, तो वहीं दूसरी ओर, ऑक्सीजन (oxygen), रेमेडिसिविर (remdesivir) और टीकों (vaccine) की कमी होने की भी बात सामने आ रही है। हालांकि, अब इन जीवनदायी चीजों की कोई कमी नहीं होगी।  क्योंकि महाराष्ट्र को 400 टन मेडिकल ऑक्सीजन और 30,000 रेमडेसिविर मिलेंगे। आईनॉक्स इंडिया, लिंडे, एयर लिक्विड, टायो निप्पॉन, डे एसडब्ल्यू, राज्य में मेडिकल ऑक्सीजन बनाने वाली पांच प्रमुख कंपनियों और कई छोटे निर्माताओं ने अपना उत्पादन बढ़ाया है।

ये सभी निर्माता कंपनियां लगभग 1270 टन ऑक्सीजन का उत्पादन कर रहे हैं। इसलिए ऑक्सीजन की कमी अब पूरी होने वाली है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने महाराष्ट्र के लिए 1,784 टन ऑक्सीजन कोटा तय किया है। इसमें राज्य के साथ-साथ राज्य के बाहर के उत्पादक भी शामिल हैं। वर्तमान में राज्य को विभिन्न अन्य राज्यों से ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है। जिसमें छत्तीसगढ़, कर्नाटक और गुजरात से प्रतिदिन लगभग 200 से 250 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। इसी तरह, राज्य को ऑक्सीजन एक्सप्रेस से शुक्रवार को 105 टन ऑक्सीजन प्राप्त हुई, जिसे कुल सात टैंकरों के साथ विशाखापत्तनम से भेजा गया था।

नाइट्रोजन टैंकरों को ऑक्सीजन टैंकरों में बदलने के लिए काम चल रहा है क्योंकि राज्य में ऑक्सीजन भरने और ढोने के लिए टैंकरों की कमी का सामना करना पड़ रहा है। अब तक, 680 टन ऑक्सीजन की वाहन क्षमता में वृद्धि हुई है। साथ ही 350 से 400 टन ऑक्सीजन की वहन क्षमता बढ़ाने के लिए काम चल रहा है। राज्य के सभी जिलों में ऑक्सीजन की समान आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए, खाद्य और औषधि प्रशासन द्वारा ऑक्सीजन आपूर्ति का एक खाका तैयार किया जाएगा और उत्पादकों और सभी जिलों को वितरित किया जाएगा।

फार्मास्युटिकल कंपनियां सिप्ला, हेटेरो, ज़ाइडस, मायलान, सन फार्मा, डॉ, रेड्डीज और जुबिलेंट रेमेडिसविर इंजेक्शन का उत्पादन कर रही हैं।सिप्ला, महाराष्ट्र में रेमडेसिविर बनाने वाली कंपनी है।  इन दवाओं को भिवंडी, पुणे और नागपुर के डिपो में संग्रहीत किया जाता है। महाराष्ट्र में सात उत्पादकों द्वारा 21 अप्रैल से लेकर 30 अप्रैल तक कुल 4 लाख 35 हजार रेमडेसिविर स्टॉक करने के लिए निर्देशित किया गया है। तदनुसार, 21 से 28 अप्रैल के बीच निजी और सरकारी अस्पतालों में 2 लाख 98 हजार 24 स्टॉक किए गए हैं।  28 अप्रैल को, 28 हजार 945 स्टॉक वितरित किए गए हैं।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें