नायर अस्पताल के रेजिडेंस डॉक्टर भी हड़ताल पर

डॉक्टर हाथों में काली पट्टी बांध कर अपना विरोध दर्ज करवा रहे हैं। इसके पहले सोमवार को सायन के रेजिडेंसियल डॉक्टरों ने भी अस्पताल के बाहर फल बेच कर हड़ताल किया।

SHARE

समय पर स्टाइपेंड नहीं मिलने पर रेजीडेंसल डॉक्टर इस समय हड़ताल पर हैं। अब इस हड़ताल में नायर अस्पताल के डॉक्टर भी जुड़ गये। डॉक्टर हाथों में काली पट्टी बांध कर अपना विरोध दर्ज करवा रहे हैं। इसके पहले सोमवार को सायन के रेजिडेंसियल डॉक्टरों ने भी अस्पताल के बाहर फल बेच कर हड़ताल किया।

नागपुर, अंबेजोगाई और औरंगाबाद सहित कई मेडिकल कॉलेजों में इंटर्न कर रहे डॉक्टरों को पिछले 2 महीने से स्टाईपेंड नहीं दिया गया है, इसीलिए अब डॉक्टर फल बेच कर अपना आन्दोलन जारी किये हुए हैं। इन डॉक्टरों के साथ साथ जो डॉक्टर हड़ताल पर नहीं थे, उन्होंने भी हाथ में काली पट्टी बांध कर अपना विरोध दर्ज कराया।

हड़ताल कर रहे इंटर्न डॉक्टरों का कहना है कि पिछले कई साल से रेजिडेंसियल डॉक्टरों पर हमले की घटना लगातार बढ़ रही है। डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए सरकार कोई यंत्रणा नहीं बना रही है और न ही कोई सिक्युरिटी उपलब्ध करा रही है। इसीलिए डॉक्टरों की सुरक्षा पर तत्काल ध्यान दिया जाए। यही नहीं इंटर्न डॉक्टरों के रहने की भी सुविधा नहीं है, उन्हें 24 घंटे काम करना पड़ता है। इस पर भी ध्यान दिया जाएं, इसके साथ अन्य कई और भी मुद्दे हैं जिन्हें डॉक्टरों मनवाना चाहते हैं।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें