आजाद मैदान में फार्मासिस्टों का आंदोलन

मुंबई - फार्मासिस्ट संघ सरकार के उस प्रस्ताव के विरोध में उतर गया है, जिसमें कहा गया है कि गैर फार्मासिस्टों को पांच साल मेडिकल स्टोर्स में काम करने का अनुभव और छह महीने के प्रशिक्षण के बाद उन्हें फार्मासिस्ट की मान्यता दी जायेगी। राज्य फार्मासिस्ट संघ ने इस प्रस्ताव का विरोध करते हुए गुरूवार को आजाद मैदान में घंटानाद आन्दोलन किया। एसोसिएशन ने कहा कि इस प्रस्ताव को केंद्र सरकार की फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया को वापस लेना पड़ेगा अगर उन्होंने यह प्रस्ताव वापस नहीं लिया तो आन्दोलन और भी तेज होगा। एसोसिएशन का तर्क है कि सरकार के इस प्रस्ताव से फार्मासिस्ट बेरोजगार हो जाएंगे, इसलिए उसे इस प्रस्ताव को वापस ले लेना चाहिए।

Loading Comments