Advertisement

कोरोना से निपटने के लिए पालघर में शुरू होगी प्लाज्मा थेरेपी

चेस द वायरस' (chace the virus) मुहिम के द्वारा कोरोना मरीजों (Covid-19 patient) की मृत्यु दर 1 प्रतिशत से भी कम करने का लक्ष्य रखा गया है ।

कोरोना से निपटने के लिए पालघर में शुरू होगी प्लाज्मा थेरेपी
SHARES

 पालघर (palghar) जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के मामलो को देखते हुए इसे कम करने के लिए वा मृत्यु दर कम करने के लिए प्रशासन के दिशा निर्देश पर विभिन्न उपाय योजना में युद्धस्तर पर लगा हुआ है । विभिन्न उपाय योजना में जिला प्रशासन ने प्लाज्मा थेरेपी (plasma therapy) की शुरुआत करने की भी मांग की थी । इसी मामले पर नालासोपारा (nalasopara)के साथिया ट्रस्ट (sathiya trust) पेटी के अध्यक्ष विजय महाजन ने जिला अधिकारी डॉ.कैलास शिंदे, व जिला शल्य चिकित्सक डॉ.कांचन वानेरे से भेंट कर साथिया ट्रस्ट ब्लड बैंक को प्लाझ्मा अँफेरेसीस की परमिशन मिलने की जानकारी दी ।

जिला अधिकारी के मार्गदर्शन वा प्रयत्न से पालघर जिले में पहला प्लाज़्मा बैंक (plasma bank) बनने जा रहा है । जिला अधिकारी कैलाश शिंदे ने कोवीड 19 में संक्रमित हुए वा फिर अच्छे हुए लोगो से बड़ी संख्या में आगे आ कर प्लाज़मा दान (donatiom plazma) करने का आव्हान किया है  इसी के साथ शासन के दिशा निर्देश पर Covid-19 के मामले में मृत्यु दर कम करने के लिए ज़िला अधिकारी कैलाश शिंदे ने एक टास्क फोर्स की भी स्थापना की है ।

'चेस द वायरस' (chace the virus) मुहिम के द्वारा कोरोना मरीजों (Covid-19 patient) की मृत्यु दर 1 प्रतिशत से भी कम करने का लक्ष्य रखा गया है । मिली हुई जानकारी के अनुसार फिलहाल पालघर जिले में रिकवरी दर 62% तक बढ़ी है। तो वही मृत्यु दर 1.3% है इसे 1% करने का लक्ष्य रखा गया है । 'चेस द वायरस' मुहिम के द्वारा तीन हजार अँटीजन किट जिला प्रशासन को मिला है । दस हजार और किट और खरीदे जाएंगे। इस के द्वारा ज़्यादा से ज़्यादा प्रतिबंधित क्षेत्रो में संदिगध मरीजों को ढूंढ कर उनका टेस्टिंग किया जायेगा ।

डहाणू (dahanu) में शुरु किए गए टेस्टिंग लैब में 500 टेस्टिंग रोज करने के लिए ऑटो आरटीपीसीआर मशीन की मांग भी की गई है ।टास्क फोर्स के द्वारा डॉक्टरों की टीम रोज शाम को संक्रमित मरीजों के इलाज वा गंभीर अवस्था मे हो रहे इलाज की जानकारी लेगी वा हफ्ते में 2 बार टास्क फोर्स की समीक्षा बैठक की जाएगी । गंभीर अवस्था के मरीजों के इलाज के लिए बड़े डॉक्टरों की सलाह वा इलाज का सुझाव लिया जाएगा ।

संबंधित विषय
Advertisement