धारावी डेवलपमेंट के लिए नया फार्मूला, 4 सेक्टरों को मिलाकर बनेगा एक सेक्टर


SHARE

एशिया के सबसे बड़े स्लम के रूप में पहचानी जाने वाली धारावी की डेवलपमेंट पिछले कई सालों से रखड़ रही है। कभी तकनीकी खामियों के कारण तो कभी स्थानीय लोगों के विरोध के कारण इसका डेवलपमेंट आज तक नहीं हो पाया। अब एक बार फिर से धरावी के विकास को लेकर एक नया फार्मूला तैयार किया गया है, नए फार्मूले के मुताबिक 4 सेक्टरों को मिलाकर 1 सेक्टर बनाया जाएगा और फिर उसका विकास किया जायेगा।


इस तरह है फार्मूला  
डीआरपी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एस.वी.आर. श्रीनिवास के अनुसार जो फार्मूला तैयार किया गया है उसके अनुसार, अब इस जगह करने के लिए पहले जो 4 अलग अलग सेक्टर बनाये गए थे उसकी जगह अब चारों सेक्टरों को मिलाकर एक सेक्टर बनाया जायेगा और बिल्डरों के माध्यम से उसका डेवेलप करवाया जायेगा।

बिल्डरों की उदासीनता 

आपको बता दें कि धारावी के डेवलपमेंट के लिए पहले 5 सेक्टर बनाये गए थे जिसके लिए अलग अगल टेंडर जारी किया गया था, लेकिन इस टेंडर को लेकर किसी विकासक यानी बिल्डर ने रूचि नहीं दिखाई। इसके बाद संशोधन करते हुए 5 सेक्टर में से एक सेक्टर ( 5 वे सेक्टर) को म्हाडा के जिम्मे कर दिया गया। जिसके बाद सेक्टर 5 का डेवलप म्हाडा कर रही है, लेकिन यह पुनर्विकास भी कछुआ चाल गति से हो रहा है।  


सब सेक्टर के बाद भी उदासीन
यही नहीं बिल्डरों द्वारा रूचि नहीं दिखाए जाने पर सेक्टर में भी सब-सेक्टर बनाये गए। जैसे सेक्टर 4 में 13 सब सेक्टर किया गया लेकिन इसके बाद भी कोई बिल्डर आगे नहीं आया। इसीलिए तमाम दुश्वारियों को देखते हुए अब चार सेक्टरों को मिलाकर एक सेक्टर बनाया गया है। आशा जगी है कि शायद अब धारावी का विकास हो जाए।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें