Advertisement

मुंबई: बांद्रा-वर्सोवा सी लिंक और वर्सोवा-विरार सी लिंक को लेकर मुख्यमंत्री ने की बैठक

इस परियोजना से जुड़े एक सूत्र ने कहा कि, समुद्री मार्ग का निर्माण करते समय सभी पर्यावरणीय नियमों को ध्यान में रखा गया है और मछुआरों को किसी भी प्रकार की कोई हानि न हो, इसका भी ध्यान रखा गया है।

मुंबई: बांद्रा-वर्सोवा सी लिंक और वर्सोवा-विरार सी लिंक को लेकर मुख्यमंत्री ने की बैठक
SHARES

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (uddhav thackeray) ने अपनी कैबिनेट के साथ हाल ही में मुंबई में दो महत्वपूर्ण परियोजनाओं, बांद्रा-वर्सोवा सी लिंक (bandra-version sea link) और वर्सोवा-विरार सी लिंक (vereova-virar sea link) की समीक्षा की। ये दोनों परियोजनाएं मुंबई में ट्रैफिक को कम करने के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण हैं।इसलिए, मुख्यमंत्री ने इन दोनों परियोजनाओं के काम में तेजी लाने का निर्देश दिया।

महाराष्ट्र राज्य सड़क विकास कॉर्पोरेशन (msrdc) की तरफ से मुख्यमंत्री के निवास स्थान 'वर्षा' में हुई बैठक में ये दोनों परियोजनाएँ प्रस्तुत की गईं। बांद्रा-वर्सोवा सी लिंक 9.6 किमी लंबी है। इसके बन जाने से न केवल ट्रैफिक जाम से लोगों को छुटकारा मिलेगा बल्कि ईंधन की भी बचत होगी और यात्रा में समय की भी बचत होगी। इसका सी लिंक के साल 2025 तक बन जाने का लक्ष्य तय किया गया है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (cm uddhav thackeray) ने जुहू-कोलीवाड़ा बाईपास और वर्सोवा को वेस्टर्न एक्सप्रेसवे से जोड़ने का भी निर्देश दिया।

जबकि वर्सोवा-विरार सी लिंक की लगभग 42.75 किलोमीटर है। इस परियोजना का ब्लूप्रिंट भी पूरा हो चुका है। यह परियोजना वर्सोवा से वसई (versova to vasai) और वसई से विरार तक दो चरणों में पूरा किया जाएगा। ये सी-लिंक वर्सोवा से विरार तक समुद्र के किनारे से होकर जाएंगे। जिससे वर्सोवा से विरार तक यातायात को गति देगा।

इस परियोजना से जुड़े एक सूत्र ने कहा कि, समुद्री मार्ग का निर्माण करते समय सभी पर्यावरणीय नियमों को ध्यान में रखा गया है और मछुआरों को किसी भी प्रकार की कोई हानि न हो, इसका भी ध्यान रखा गया है। इसके अलावा, मछुआरों की नौकाओं और अन्य नावों की आवाजाही को सुविधाजनक बनाने के लिए चार स्थानों पर नेविगेशन स्पैन भी लगाए जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को वर्सोवा-विरार सी लिंक मार्ग की एक विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करने का आदेश दिया और इन दोनों सी लिंक के बन जाने से अर्थव्यवस्था और रोजगार के अवसर बढ़ाने की भी बात कही।

MSRDC के प्रबंध निदेशक, राधेश्याम मोपलवार (radheshyam mopalwar) इन परियोजनाओं की प्रस्तुति दी। इस मौके पर मुख्यमंत्री सचिवालय के प्रधान सलाहकार अजोय मेहता, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त मुख्य सचिव आशीष कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव विकास खड़गे, वित्त विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव मनोज सौनिक, लोक निर्माण विभाग के सचिव अनिल कुमार गायकवाड़ सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
Advertisement