परिवहन परियोजनाओं के लिए मुंबई में 2.75 लाख करोड़ रुपये का निवेश

अगले छह वर्षों में इस रकम को मुंबई के यातायात के लिए खर्च किया जाएगा

SHARE

मुंबई में दिन ब दिन बढ़ती आबादी को देखते हुए सरकार ने मुंबई के परिवहन सेवा पर विशेष ध्यान देने का फैसला किया है।  सरकार ने मुंबई के  बुनियादी ढांचे  और परिवहन परियोजनाओं के लिए मुंबई में 2.75 लाख करोड़ रुपये खर्च करने का फैसला किया है। यह केंद्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा किया जाएगा।  अगले छह वर्षों में इस रकम  को मुंबई के यातायात के लिए खर्च किया जाएगा।

दिलचस्प बात यह है कि ज्यादातर इन्फ्रास्ट्रक्चर का काम पहले ही शुरू हो चुका है, जैसे मेट्रो प्रोजेक्ट, नवी मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा, मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक (MTHL) और इसके साथ ही बोरिवली और विरार तक की लाइन पर भी रेलवे के लिए अतिरिक्त काम किया जा रहा है।  

रेलवे पर भी विशेष ध्यान
एमयूटीपी -3 परियोजनाओं में वसई-विरार फोर लेन, पनवेल-कर्जत उपनगरीय दोहरी मार्ग और अन्य परियोजनाएं शामिल हैं। एमयूटीपी -3 परियोजनाओं के लिए लिया गया कर्ज 2038 में चुकाया जाएगा। एमयूटीपी -3 और एमयूटीपी -3 ए परियोजनाओ को जूरी दे दी गई है।

कौन कौन से प्रोजेक्ट होंगा शामिल

MUTP 3A में मुंबई के लिए कई अहम पोर्जेक्ट को जोड़ा गया है। जिसमें सीएसएमटी -पनवेल हार्बर लाइन पर एलिवेटेड कॉरिडोर बनाना, पनेवेल से विरार तक सर्बन कॉरिडोर, हार्बर लाइन को गोरेगांव से लेकर बोरिवली तक विस्तार करना , बोरिवली और विरार के बीच में 5वीं और 6वीं लाइव बैठाना, कल्याण आसनगांव के बीच चौथी लाइन शुरु करना, कल्य़ाण और बदलापूर के बीच तीसरी और चौथी लाइन शुरु करना जैसे कामो के साथ साथ स्टेशनों का सुधारिकरण करना और तकनीकी तौर पर रेलवे को मजबूत करना भी है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें