सड़क के रास्ते मुंबई से दिल्ली मात्र 12 घंटे में- नितिन गडकरी

गडकरी ने दावा किया कि यह पहला ग्रीन हाईवे है जो आदिवासी इलाकों से होकर गुजर रहा है।

SHARE

दिल्ली और मुंबई सफ़र करने वालों के लिए खुशखबरी है. केंद्रीय सडक़ परिवहन एवं राजमार्ग एक ऐसा रोडमैप तैयार कर रहा है जिसके बाद इन दोनों शहरों के बीच की दुरी कम हो जाएगी. इस मंत्रालय के मंत्री नितिन गडकरी ने लोकसभा में इस योजना का रोडमैप बताया। मंत्री जी के अनुसार अगर तीन साल में सब कुछ ठीक रहा और अपने समय पर हुआ तो दिल्ली-मुंबई की दूरी 120 किलोमीटर कम हो जाएगी। 

60 प्रतिशत ठेका का काम आवंटित
नितिन गडकरी के अनुसार यह हाईवे पूरी तरह से गईं हाईवे होगा। इस हाईवे के कम के लिए 60 प्रतिशत ठेका का काम आवंटित किया जा चुका है। अगर यह हाईवे बन जाता है तो दिल्ली से मुंबई मात्र 12 घंटे में पहुंचा जा सकेगा। यह हाईवे गुडग़ांव से शुरू होकर सवाई माधोपुर, अलवर, रतलाम, झाबुआ, बड़ोदरा से होकर मुंबई जाएगा।

अधिग्रहण में 16 हजार करोड़ रुपए की बचत
गडकरी ने आगे बताया कि यह मार्ग देशभर में तैयार किए जा रहे ग्रीन एक्सप्रेस हाईवे नेटवर्क का ही एक हिस्सा है। मंत्रालय ने इस प्रोजेक्ट पर सिर्फ जमीन अधिग्रहण में 16 हजार करोड़ रुपए की बचत की है। उन्होंने कहा कि, अगर दिल्ली, अहमदाबाद, बड़ोदरा से मुंबई के मौजूदा हाईवे के किनारे-किनारे पर ग्रीन एक्सप्रेसवे बनाया जाता तो जमीन अधिग्रहण पर 6 करोड़ रुपए प्रति हेक्टेयर की दर से खर्च करना पड़ता लेकिन  हमने हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र के पिछड़े इलाकों का रास्ता निकाला, जहां जमीनें सस्ते में मिल गईं। गडकरी ने दावा किया कि यह पहला ग्रीन हाईवे है जो आदिवासी इलाकों से होकर गुजर रहा है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें